अगले 14 दिन बहुत ही महत्वपूर्ण वैश्विक महामारी कोरोना के तीसरे चरण में

0
10

आर्चबिशप कार्डिनर ओसवार्ल्ड ग्रेसियस ने कहा कि 31 मार्च तक ईसाई समुदाय घर पर ही प्रार्थना करें।संडे मास के साथ खजूर इतवार का कार्यक्रम निलम्बित कर दिया गया है। दुखभोग अवधि में उपवास पहरेज करते रहे

पटना,19 मार्च। देश स्टेज थ्री की ओर बढ़ रहा है।
आज यानी 19 मार्च से शुरू हो गया है। इसके आलोक में अगले 7-8 दिन बहुत ही महत्वपूर्ण है।
यदि आप 135 करोड़ नागरिक संकल्प एवं संयमित रहे। खुद अपने को और अपने परिवार को वैश्विक महामारी कोरोना से बचा लें। तब ऐसा समझा जाता है कि आधी से अधिक ज्यादा जंग जीत ली गयी है।

19 मार्च से देश में कोरोना का तीसरा चरण प्रारम्भ

तीसरा चरण में  कम्युनिटी इंफेक्शन शुरू हो गया।अभी तक देश में 175 लोग संक्रमित हैं। 25 लोग संक्रमण मुक्त हो गए हैं। 4 लोगों की अकाल मौत हो गयी है।दिल्ली,कर्नाटक,मुम्बई और पंजाब के हैं।बता दे कि तीसरा चरण में  कोरोना एक व्यक्ति से दूसरे में तेजी से फैलता है। इस समय यदि अपने परिवार को बचा लें तो जंग जीत सकते हैं।ऐसे में अगले 14 दिन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना का वायरस किसी भी शरीर में 14 दिनों तक जिंदा रहता है। ऐसे में अगर हम आज से इसे रोकने का प्रयास करते हैं और अगले 14 दिन कोई नए मामले सामने नहीं आते हैं तो फिर हम बड़ी लड़ाई जीतने में सफल होंगे। लेकिन अगर यह 14 दिन गंभीरता नहीं दिखाई तो फिर हालात बुरी होती चली जाएगी।

अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय

अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय भी अहम किरदार तीसरा चरण में  निभाना शुरू कर दिया है। मुम्बई के आर्चबिशप ओसवार्ल्ड ग्रेसियस ही पोप का प्रतिनिधि कार्डिनर भारत का हैं। सीबीसीआई के अध्यक्ष हैं।उन्होंने वीडियो कॉल के मार्फत से 31 मार्च तक चर्च में मिस्सा और अन्य धार्मिक कार्यों को निलम्बित करने का निर्देश दिया। घर के अंदर ही प्रार्थना करें।आगे आर्चबिशप कार्डिनर ओसवार्ल्ड ग्रेसियस ने कहा कि 31 मार्च तक ईसाई समुदाय घर पर ही प्रार्थना करें।संडे मास के साथ खजूर इतवार का कार्यक्रम निलम्बित कर दिया गया है। दुखभोग अवधि में उपवास पहरेज करते रहे।यह एतियातन कदम भारत में कोरोना महामारी की चुनौती का सामना करने लिए हो रहा है।तीसरा चरण खतरनाक है वह पूरे समुदाय में वायरस का संक्रमण हो जाएगा।जो विस्फोटक साबित हो सकता है।आम लोग खुद का बचाव करने के लिए द्यर से बाहर न निकले।सात तरह की सर्जिकल हैण्ड वास होता है बीस सेकेंड तक हाथ की सफाई करते रहे। केरल की युवतियां व पुलिस हाथ की सफाई के बारे में बता रही हैं।

दिल्ली के आर्चबिशप

इस बीच दिल्ली के आर्चबिशप अनिल जोसेफ थॉमस क्यूटो ने भी धार्मिक कार्यों को अगले आदेश के लिए निलम्बित कर दिया है।नयी दिल्ली स्थित सेक्रेट हार्ट कैथेडल में जनजुटान नहीं होगा।वस्तुत: कैथेडल के पल्ली पुरोहित  व अन्य पल्ली पुरोहित लागू करेंगे।भारत में दिल्ली के आर्चबिशप में है जो कोरोना महामारी के कारण चर्च के सारे धार्मिक कार्यों को निलम्बित कर दिया है।

क्रिश्चियन कम्युनिटी फोरम

इस बीच क्रिश्चियन कम्युनिटी फोरम ने दुखभोग अवधि में मुसीबत करवाने वाले शख्स से जानना चाहा कि आप महामारी कोरोना का कुरियर तो नहीं बन रहे हैं.मसलन मुसीबत को क्या बंद करिएंगा?उक्त शख्स का कहना था कि जिनके यहाँ यह कार्यक्रम होनेवाला है।अगर वे लोग मना करेंगे,तो वहां नहीं कराया जाएगा।अभी तक किसी ने इन्कार नहीं किया है।सरकार का भी आदेश है कि पचास से ज्यादा लोगों की बैठक नहीं होनी चाहिये।पचास से कम लोग ही आते हैं।खांसने वाले, बुखार वाले,सर्दी जुकाम वाले से अलग रहना है।उनको शामिल नहीं करना है।

आगे शख्स ने एक सुझाव दिया

जैसा कि कार्डिनल ओसवार्ल्ड ग्रेसियस ने कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से मुम्बई के सभी चर्चों में क्रूस रास्ता वगैरह के समय होने वाले भीड़ को ध्यान में रखते हुए सावधानी की दृष्टि से इसपर  कुछ समय के लिये रोक लगाने का आह्वान किया है।सुरक्षा की दृष्टि से अगर ऐसी ही संभावना बिहार में भी उत्पन्न होती है।तो विकल्प के तौर पर हम ईसाई गण अपने अपने घरों में या मुहल्ले में (पचास से कम की संख्या में) बुधवार तथा शुक्रवार को करा सकते हैं।मुझे उम्मीद है कि इस सुझाव पर हमारे महा धर्माध्यक्ष तथा धर्मगुरुओं को आपत्ति नहीं होगी।कृपया  एक सुझाव के तौर पर इसपर ध्यान दें।एस.के.लॉरेंस।

कुर्जी चर्च में कल क्रूस रास्ता नहीं

इस बीच जानकारी मिली है वर्तमान स्थिति के संदर्भ में  पल्ली पुरोहित फादर प्रशांत पायस माइकल ओस्ता आप सबको सूचित किया है कि कुर्जी चर्च में कल क्रूस रास्ता नहीं होगा। ना ही 3:30 बजे ओर ना ही 5 बजेIसभी विश्वासियों  से निवेदन है कि वे सभी अपने अपने घरों में ही क्रूस रास्ता करे।