अध्यापकों की लेटलतीफी से बच्चों की शिक्षा हो रही प्रभावित ग्रामीणो मे रोष

0
96

शिकारगंज चकिया (चन्दौली) सरकार द्वारा भले ही प्राथमिक विघालयो मे बच्चों की शिक्षा के नाम पर निंशुल्क ड्रेस किताबें निंशुल्क शिक्षा मिड डे मिल जैसी महत्वपूर्ण योजनाए चला रही हो जिससे ग्रामीण अंचल के नौनिहालों को कान्वेन्ट की तरह पर शिक्षा देने का दावा करती हो लेकिन सरकार के तमाम कवायदो के बाद भी प्राथमिक विघालयो की स्थिति  दिन पर दिन खराब होती चली जा रही है कभी मिड डे मिल योजना मे धांधली कभी ड्रेस मे धांधली तथा अध्यापकों की लेटलतीफी से शिक्षा के स्तर मे गिरावट आती नजर आ रही है जिससे सरकार का कान्वेन्ट की तर्ज पर शिक्षा देने का फरमान हवा हवाई होता नजर आ रहा है।

ग्रामसभा ओपन पंडी के प्राथमिक विद्यालय में खबर लेने गए पत्रकार से वहां के शिक्षामित्र तहसीलदार यादव द्वारा पत्रकार से दुर्व्यवहार किया गया और उसे धक्के देकर बाहर निकाल दिया गया ग्राम प्रधान द्वारा प्राथमिक विद्यालय में शौचालय का निर्माण कराया जा रहा है जिसका निरीक्षण करने पत्रकार विवेक भारती गए थे लेकिन उनके साथ वहां कार्यरत शिक्षामित्र तहसीलदार द्वारा दुर्व्यवहार और धक्का-मुक्की किया गया, इससे साफ जाहिर होता है कि निर्माण हो रहा शौचालय वांछित रूप से अधूरा और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा है इसमें ग्राम प्रधान और प्रधानाध्यापक अन्य शिक्षकों की मिलीभगत मालुम होता है।

निरीक्षण के दौरान ग्रामीणों में विद्यालय और शिक्षकों  तथा ग्राम प्रधान के  प्रति रोष देखा गया, ग्रामीणों का कहना है कि, विद्यालय का कोई भी अध्यापक समय से विद्यालय नहीं आता उसमें जो शिक्षामित्र की पोस्ट पर कार्यरत तहसीलदार यादव सीमा और प्रधानाध्यापक महेंद्र कुमार समय से विद्यालय नहीं पहुंचते तथा विद्यालय पहुंचने पर ईयर फोन लगाकर बैठे रहते हैं, ना ही विद्यालय में सही ढंग से पढ़ाई होती है ग्रामीणों का कहना है कि विद्यालय में बच्चों को सही ढंग से शिक्षा नहीं मिल पाता, प्राथमिक विद्यालय में कार्यरत शिक्षामित्र तहसीलदार यादव का कहना है कि हम कभी आए कभी जाए इससे किसी से क्या लेना देना ग्रामीणों ने यह भी कहा कि यह बात तहसीलदार यादव एक बार नहीं कई बार कह चुके हैं ग्रामीणों ने यह भी कहा कि तहसीलदार यादव कभी 11:00 बजे कभी 12:00 बजे विद्यालय आते हैं और समय से पहले ही घर चले जाते हैं।

यह मामला है चकिया तहसील के पंडी गांव के प्राथमिक विघालय का मामला जहां शौचालय मिड डे मिल योजना तथा अध्यापकों की लेट लतीफी से जहां गांव के लोगो मे रोष व्याप्त है गांव के राजेश  आदित्य गोविंद ने बताया कि अध्यापकों द्वारा विघालय मे आये दिन लेटलतीफी रहते है जिससे बच्चो की शिक्षा पर काफी  प्रभाव पड़ रहा है ग्रामीणो द्वारा लेटलतीफी की शिकायत कई बार  की गयी लेकिन अध्यापकों के विघालय मे आने पर कोई भी प्रभाव नही पड़ रहा है जिसको लेकर लोगों मे काफी रोष व्याप्त है।

विवेक भारती, चंदौली ब्यूरो