अनिल कपूर इन दोनों फिल्मों में टिपिकल मसाला फिल्मों से कुछ हटकर करने की कोशिश

0
52

कभी मुन्ना, कभी लखन तो कभी मिस्टर इंडिया बनकर पिछले 40 साल से देश दुनिया में बसे हिंदी सिनेमा के कद्रदानों का मनोरंजन करते आ रहे अभिनेता अनिल कपूर ने अपनी बिटिया सोनम को लेकर ‘फन्ने खां’, ‘वीरे दी वेडिंग’, ‘खूबसूरत’ और ‘आयशा’ नाम की चार फिल्में बनाई हैं, अब तक नौ फिल्मों के वह प्रोड्यूसर रहे। अनिल ने बतौर फिल्म निर्माता पहली फिल्म बनाई थी अपने पुराने दोस्त सतीश कौशिक के साथ मिलकर, ‘बधाई हो बधाई’। फिल्म कंपनी के नाम में दोनों दोस्तों का नाम था। लेकिन फिर अनिल कपूर ने सिर्फ अपने ही नाम से अनिल कपूर फिल्म कंपनी बनाई और राम गोपाल वर्मा के साथ मिलकर बनाई, ‘माई वाइफ्स मर्डर’।
अनिल कपूर इन दोनों फिल्मों में टिपिकल मसाला फिल्मों से कुछ हटकर करने की कोशिश में कभी खूब फूले तो कभी खूब पिचके, लेकिन उनके भीतर का असल फिल्म निर्माता जागा फिल्म, ‘गांधी, माई फादर’ में। ‘गांधी, माई फादर’ को रिलीज हुई 13 साल पूरे हो गए हैं और अगर आपने ये फिल्म अब तक नहीं देखी है तो कम से कम ये जानने के लिए जरूर देखिए कि जो इंसान एक पूरे देश का राष्ट्पिता कहलाया, वह अपने सबसे बड़े बेटे की नजर में ही अच्छा पिता क्यों नहीं बन सका।(UNA)