अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्रा 24-25 फरवरी 2020 को

0
30

यूएनए ब्यूरो, दिल्ली

आगामी 24 और 25 फरवरी की संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की पर ख़ुशी जाहिर करते हुए भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ख़ुशी जाहिर की है और बताया है कि श्री ट्रम्प की यात्रा से दोनों देशों की मित्रता में और प्रगाढ़ता आएगी.इसकी जानकारी PIB की एक प्रेस विज्ञप्ति से मिली है.

राजनीतिक पर्यवेक्षक ट्रम्प की इस यात्रा को बहुत कूटनीतिक बता रहे हैं. इधर देश में जिस आर्थिक मंदी की सबसे बड़ा संकट दिख रहा है, उससे नरेंद्र मोदी की सरकार को इस यात्रा से बड़ी मात्रा में पूँजी निवेश की उम्मीद है. लेकिन आशंका यह भी है कि इस यात्रा के बहाने अमेरिका पकिस्तान और चीन को एक साथ साधना चाह रहा है. अमेरिका को इस बात के लिए आश्वस्त करना की भारत में हालात निवेश के लिए बहुत ठीक हैं, यह बहुत बड़ी कवायद होगी. क्योंकि कश्मीर को लेकर पूरे विश्व बिरादरी में भारत सरकार को बहुत फजीहत झेलनी पड़ रही है, वहीँ नागरिकता संशोधन कानून की वजह से भी अलगाव में भारत पड़ा हुआ है.

मोदी के पिछले कार्यकाल में ही ट्रम्प को आना था लेकिन किन्हीं कारणों से आना स्थगित हो गया था, लेकिन ट्रम्प और मोदी ने अमेरिका में जिस तरह से मंच शेयर किया उससे इन दोनों नेताओं के बीच काफी अच्छे रिश्ते बने. लेकिन अब देखना ये है कि ट्रम्प का रवैया पकिस्तान के प्रति कैसा रहता है. अभी जिस तरह का माहौल पकिस्तान विरोध का मोदी सरकार बना रही है और प्रतिक्रिया में पकिस्तान के रवैये पर ट्रम्प की मध्यस्तता बहुत महत्वपूर्ण है. हालांकि कश्मीर के मुद्दे पर ट्रम्प द्वारा बदलते बयानों को भी ध्यान में रखना चाहिए.