आज का दिन बिहार की राजनीति में चूहों का बोलबाला रहा

0
68

पटना,06 मार्च। एक आई.ए.एस.हैं प्रदेश में। जो हमेशा महादलितों को चूहा पालन कर चूहों का व्यापार करने पर बल देता था पर वह आईएएस सफल न हो सका।आज राजद के ‘माननीय’ पिंजरे में बंद कर चूहा लाए थे। सरकार उक्त चिंहित चूहा पर कानूनी कार्रवाई करें।

तो आज का दिन बिहार की राजनीति में चूहों का बोलबाला रहा । बिहार में जब बाढ़ आई तो इसका इल्जाम इन चूहों पर लगा कि चूहों ने बांध को काट खाया जिसकी वजह से बाढ़ आई। फिर बिहार में शराबबंदी के बाद जब शराब की पेटियां जब्त कर थाने में रखी गईं और शराब की बोतलें खाली पायी गईं तो फिर से उसका इल्जाम चूहों पर लगा कि चूहों ने सैकड़ों बोतल शराब पी ली।

आरजेडी के विधान पार्षद सुबोध राय शुक्रवार को हाथ में चूहेदानी (चूहे का पिंजरा) और उसमें एक बड़ा-सा चूहा लेकर विधान परिषद परिसर पहुंचे। विधान परिषद भवन के बाहर आरजेडी के विधान पार्षदों ने चूहे को सजा दिलाने का नारा लगाया।

इस दौरान विधान परिषद में विपक्ष की नेता और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा, “राज्य सरकार घोटाले करती है और इसका जिम्मेदार चूहों को बताती है। हम घोटालों के जिम्मेदार चूहे को पकड़कर लाए हैं।”

राबड़ी देवी ने कहा, “बिहार में 55 घोटाले हुए। सरकार ने घोटालों का जिम्मेदार चूहों को बता दिया। सरकार कहती है कि चूहों ने बांध काट दिया, जिससे बाढ़ आ गई। चूहे कई ट्रक शराब पी गए। अस्पताल में रखी दवाएं चूहे खा गए। अब चूहों को फाइल कुतरने का जिम्मेदार बताया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “यह सरकार खुद घोटाला पर घोटाला करती है और चूहों को जिम्मेदार बताती है। हम चूहे को लाए हैं, ताकि इसपर कार्रवाई की जा सके।” इस पर सत्ता पक्ष के नेताओं ने कहा कि विपक्ष के पास अब कोई मुद्दा नहीं है तो यही अनाप-शनाप काम करेंगे।

आलोक कुमार