उत्तराखंड देहरादून बसन्त कुंज में उद्यमियो को आवार्ड वितरण करते हुए कर्मचारी :-

राज्य की राज्यधानी देहरादून बसन्त कुंज मेले में अपने -अपने पुष्प प्रदर्शनों में उधमिययो को आवार्ड पुरस्कार वितरण करते हुए राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड के कर्मचारी गण बताया जाता है कि राष्ट्र बागवानी बोर्ड की स्थापना भारत सरकार द्वारा सन 1984 में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के अंतर्गत एक स्वायत्त शासी सोसायटी के रूप में कई गयी थी राष्ट्रीय बागवानी की योजनाओं के लक्ष्य और उद्देश्य यह है कि चिन्हित क्षेत्रो में उच्च गुणवत्ता वाले बागवानी फॉर्मो को विकसित करना ,ताजे बागवानी उत्पादन के लिए एकीकृत ऊर्जा कार्यक्षम शीत श्रृंखलाओं की संरचना का विकाश करना ,आवश्यक प्रोधोगिक मूल्यांकन करने के पश्चात अंगीकरण के लिए नए प्रोधोगिक/ औजारों को प्रचलित करना ।, ताजे बागवानी उत्पादों का संवर्धन तथा बाजार के विकाश के लिए कदम उठाना।, नई विकसित /आयातित रोपण सामग्रियों तथा अन्य कृषि निवेशों ,उत्पादों प्रोधोगिक ,पी0एच0एम0 प्रोटोकॉल ,आई0 एन 0एम0 के क्षेत्र परीक्षण का संबर्धन करना तथा प्रामाणिक प्रौद्योगिकी के व्यसायिकरण के लिए अनुप्रयुक्त अनुसंधान एंव विकाश का संवर्धन करना । उत्पादको/किसानों और सेवा प्रदाताओं जैसे गार्डनों ,नर्सरी मैन ,कृषि स्तर के कुशल श्रमिको ,शीत संग्रहकारो के प्रचालकों , कटाई पश्चात प्रबंधन कार्य बल के लिए प्रोधोगिक का प्रभावी अंतरण करना इसमे नए बागवानी उत्पाद का प्रसंस्करण तथा मास्टर प्रशिक्षण भी शामिल है ।