उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर के द्वारा पीड़िता अनीता देवी के मृत बच्चे को वापस नहीं करने के विरोध में 12 फरवरी को होगा धरना प्रदर्शन

14
149

UNA NEWS
KAIMUR BUREAU

विनोद कु राम /संवाददाता

भभुआ-उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर प्रसव पीड़ा के दौरान अनीता देवी के बच्चे को गायब कर देने को मामला को लेकर भाकपा माले लिबरेशन सारंगपुर गांव में जाकर पीड़ित महिला से मिलकर सभी तत्वों से अवगत हुआ। पीड़ित महिला भभुआ थाना क्षेत्र के सारंगपुर गांव निवासी संजय बिंद के पुत्री अनीता देवी बताई जाती है। अनीता देवी के परिजनों के ऊपर उप स्वास्थ्य केंद्र से जुड़े हुए दलालों के द्वारा झूठे मुकदमे के आरोप में साजिश के तहत फंसाने की धमकी बार बार मिल रही है। भाकपा माले लिबरेशन के घटक अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) जिला इकाई कैमूर के बैनर तले 12 फरवरी को जिला समाहरणालय के समक्ष धरना प्रदर्शन करने का ऐलान किया है। ज्ञात हो कि अनीता देवी को प्रसव पीड़ा के दौरान प्राइवेट क्लीनिक हाटा में कंचन देवी के पास गई। कंचन देवी ने प्राइवेट टेंपो करके उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर लाया। पीड़िताअनीता देवी को प्रसव पीड़ा के दौरान इंजेक्शन देकर बेहोश कर दिया गया। जब उसे होश आया तो उसे बताया गया कि तुम्हारा बच्चा मृत पैदा हुआ है। उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर के द्वारा अनीता देवी को मृत बच्चा को भी संस्कार हेतु उपलब्ध नहीं कराया गया। इस घटना को लेकर भभुआ चैनपुर सारंगपुर गांव के समीप सैकड़ों महिला पुरुषों ने सड़कों को अवरुद्ध कर दिया और उप स्वास्थ्य केंद्र पर बच्चा के हेरा फेरी को लेकर जिला प्रशासन से मुकदमा दर्ज कराने के लिए पुरजोर मांग किया था। भाकपा माले लिबरेशन के 2 सदस्यीय कमेटी कार्यालय सचिव कामरेड मोरध्वज सिंह, नगर कमेटी सदस्य महेंद्र सिंह ने घटनास्थल पर जाकर पीड़िता अनीता देवी से गहन पूछताछ के क्रम में बताया कि 5 फरवरी को पेट में दर्द होने के कारण अपने निजी कंचन देवी के पास लगातार उपचार हो रहा था। अनीता देवी ने उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर एवं कंचन देवी पर अपने बच्चे को बाजार में रुपए लेकर बेच देने का गंभीर आरोप लगाया है। जबकि उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर द्वारा अंतिम संस्कार हेतु न तो जिंदा बच्चा उपलब्ध कराया गया ना ही मृत। भाकपा माले लिबरेशन के कार्यालय सचिव मोरध्वज सिंह ने प्रेस को बताया कि पीड़िताअनीता देवी के मुकदमे वापस लेने के लिए तरह-तरह के स्वास्थ्य केंद्र के दलालों के माध्यम से जान से मारने एवं झूठा मुकदमा में फंसाने का बार-बार धमकी दिया जा रहा है। जिला प्रशासन परिवारों को बचाने के बजाय दलालों के मेल में आकर उप स्वास्थ्य केंद्र चैनपुर को बचाने के कार्य मैं लगा हुआ है।। उन्होंने कहा कि पीड़िता के पक्ष में अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) के बैनर तले 12 फरवरी को समाहरणालय के समक्ष एक विशाल धरना दिया जाएगा।

14 COMMENTS

  1. Can I simply say what a reduction to search out someone who actually is aware of what theyre talking about on the internet. You definitely know learn how to deliver a difficulty to mild and make it important. Extra people must read this and perceive this facet of the story. I cant believe youre not more widespread since you undoubtedly have the gift.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here