एक सप्ताह में हटाएं ऐसी दुकानें, अन्यथा होगी कार्रवाई

0
1
तम्बाकू नियंत्रण कानून 2003 के तहत जिले की समस्त शैक्षणिक संस्थाओं के 100 मीटर के दायरे में तम्बाकू उत्पाद अथवा सिगरेट जैसी सामग्री का विक्रय नहीं हो सकेगा। शैक्षणिक संस्थाओं के निर्धारित उक्त परिसर क्षेत्र में यदि कोई दुकानदार इस तरह की सामग्री बेच रहा है तो उससे अपेक्षा की गई है कि वह एक सप्ताह के अंदर वह अपनी दुकान हटा लें, अन्यथा उसके विरूद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। उक्त निर्देश सोमवार को कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक की अध्यक्षता में आयोजित जिला स्तरीय तम्बाकू नियंत्रण समिति की बैठक में दिए गए। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री कार्तिकेयन के., जिला पंचायत सीईओ श्री एमएल त्यागी सहित समिति के सदस्य उपस्थित थे।
बैठक में अधिनियम के प्रावधानों की जानकारी देते हुए बताया गया कि सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान निषेध है। तम्बाकू नियंत्रण कानून के अंतर्गत सभागृह, अस्पताल भवन, रेल्वे स्टेशन व प्रतिक्षालय, मनोरंजन केन्द्र, रेस्टोरेंट व शासकीय कार्यालय, न्यायालय परिसर, शिक्षण संस्थान, पुस्तकालय, लोक परिवहन, कार्यालय व दुकानें इत्यादि सार्वजनिक स्थल श्रेणी में आते हैं। ऐसे स्थानों पर अधिनियम का उल्लंघन करने पर 200 रूपए तक का जुर्माना किया जा सकता है।
बैठक में कलेक्टर ने कहा कि स्कूलों में अभियान चलाकर छात्रों में तम्बाकू उत्पादों एवं सिगरेट इत्यादि का उपयोग नहीं करने के प्रति जागरूक किया जाए। साथ ही उनको इससे होने वाले नुकसानों की जानकारी दी जाए। उन्होंने कहा कि स्कूलों में चलाए जाने वाले इस अभियान की विस्तृत रूपरेखा तैयार की जाए। बैठक में तम्बाकू उत्पादों एवं सिगरेट के सेवन से होने वाली बीमारियों से आमजन को जागरूक करने के भी अधिकारियों को निर्देश दिए गए। साथ ही तम्बाकू नियंत्रण कानून के व्यापक प्रचार-प्रसार करने हेतु स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया। इस दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया भी मौजूद थे।