औरंगाबाद जगहों और शहरों के नाम बदलने की राजनीति अब महाराष्ट्र पहुंच चुकी है।

0
77

औरंगाबाद
जगहों और शहरों के नाम बदलने की राजनीति अब महाराष्ट्र पहुंच चुकी है। शिवसेना नेता और महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) ने शनिवार को कहा कि औरंगाबाद (Aurangabad) का विकास एक महत्वपूर्ण पहलू है और उसका नाम बदलकर ‘संभाजीनगर’ (Sambhajinagar) करने का निर्णय सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के घटकों के बीच सर्वसम्मति से लिया जाएगा। राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने इस प्रस्ताव को सभी के सामने पेश किया था। इसके बाद से ही शिवसेना और कांग्रेस के बीच विवाद जारी है।

दरअसल नाम परिवर्तन का पैरोकार रही शिवसेना एमवीए के घटक कांग्रेस के विरोध का सामना कर रही है जबकि बीजेपी यह दावा करते हुए उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी पर हमला कर रही है कि वह बस सत्ता में बने रहने के लिए अपनी पुरानी मांग त्याग रही है। कांग्रेस के सवाल पर यह बोले संजय राउत
इस बीच जब शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत से यह पूछा गया कांग्रेस आखिर क्यों औरंगाबाद का नाम बदलने का विरोध कर रही है, उन्होंने कहा- ‘मुझे नहीं पता। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) साफ तौर पर हमलोगों से कह चुके हैं, यह संभाजीनगर है और यही रहेगा। यह लोगों की भावना से जुड़ा है, इसलिए इस पर चर्चा हो सकती है, पर यह फैसला लिया जा चुका है।’