औरैया के पास दो ट्रकों की भिड़ंत में 21 मजदूरों की मौत

0
22

मजदूरों के है लाखो दर्द। किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। मजदुर पैदल जाय, भूखे प्यासे जाय, या रास्ते में ही मर जाय। किसी भी नेता को कोई फर्क नहीं पड़ता। कोई तयारी नहीं कुछ नहीं बस , उनहे तो बस खली ऐलान कर देना है। की ये आज से बंद हो जायेगा, ये आज से चालु हो जायेगा , आज से ये देना होगा बस केवल ऐलान ही करते रहना है। अधिकारिओ को भी अब सुन सुन के आदत सी हो गयी है। उनहे भी कोई फर्क नहीं पड़ता। इन सब में पीस रही है आम जनता। एक और खबर मजदूरों के मौत की आयी है उत्तर प्रदेश के औरैया के पास दो ट्रकों की भिड़ंत में 21 मजदूरों की मौत हो गई है और करीब 15 मजदूर घायल हैं. बताया जा रहा है कि ट्रकों में सवार मजदूर गोरखपुर जा रहे थे. ये लगातार तीसरा दिन है जब उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों की सड़क हादसे में मौत। जबकि सडको पर पाहिले की तरह आवा जाहि भी नहीं है।