करोना नाम की लूट मची है लूट सको तो लूट लो।

0
211

करोना नाम की लूट मची है लूट सको तो लूट लो। एक तरफ सरकार ऐलान कर रही है की मजदूरों के लिए खजाना खोल दिया है पर जमीनी हकीकत ये है की मजदूरों का चारो तरफ से सोसन किया जा रहा है। मजदूर लोरियो पर, साईकिल से पैदल जैसे वो भाग सकते है भाग रहे है। लारी वाले एक एक मजदूर से चार चार हज़ार रुपया लिया और भेद बक़रारियो की तरह लाद कर एक जगह से दूसरी जगह ले जा रहे है। क्युकी केंद्र राज्यों पर और राज्य केंद्र पर जिम्मेदारी को धकेल रहे है। बस बड़ी बड़ी ऐलान करते रहते है। मिल और कारखानों के मालिक भी मजदूरों को उनका वेतन तक ठीक तरह से नहीं दिया। लोगो के पास पैसे ख़तम हो गए। भुखमरी की समस्या मजदूरों के सामने करोना से भी बड़ी समस्या बन गयी तो मजदूर क्या करे।