काज़ी-ए-हिन्दुस्तान के ऐलान के बाद अपने अपने घरों में अदा की गई जोहर की नमाज

0
27
रिपोर्ट – मो.ज़ाहिद खान

बरेली – कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैल चुका है।कोरोना ने पूरी दुनिया मे हड़कंप मचा रखा है हर देश इसे रोकने की पूरी कोशिश कर रहा है।लेकिन अभी तक कोई भी देश कोरोना को रोकने के लिए इलाज नहीं ढूंढ पाया है। जिसके कारण इसे महामारी घोषित कर दिया गया है। कोरोना वायरस से सिर्फ सावधानियां अपना कर ही बचा जा सकता है। कोरोना की रोकथाम के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में जनता कर्फ्यू लगाने के बाद लॉकडाउन लागू कर दिया है जिससे कोरोना की कड़ी को तोड़कर रोका जा सके।देश में सभी सरकारी, प्राईवेट स्कूल, कॉलेज, मार्केट, सभी संस्थायें बंद कर दी गई हैं एवं सभी धार्मिक स्थलों पर भी भीड़ एकत्र न करने और पूजा पाठ अपने अपने घरों पर करने की अपील की है। बस, ट्रैन एवं हवाई यात्रायें भी रद्द कर दी गई। लोगों से अपील की गई है कि अपने घरों में रहे घरों से बाहर न निकलें। सावधानी ही बचाओ है।

     कोरोना वायरस के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए।दरगाह आला हजरत से काजी-ए-हिंदुस्तान मुफ्ती मोहम्मद असजद रजा खां कादरी की सदारत में उलमा की बैठक के बाद किये गए एलान पर बरेली की मस्जिदों में जुमा की नमाज अदा नहीं की गई। लोगों ने अपने अपने घरों पर जोहर की नमाज अदा की। दरगाह आलाहज़रत से ऐलान हुआ कि मस्जिद में सिर्फ अज़ान पढ़ी जायेगी और कमेटी के दो तीन लोग ही जमात से नमाज अदा करें बाकी लोग अपने अपने घरों पर नमाज अदा करें। कोरोना वायरस से हिफाज़त के लिए अपने और मुल्क के लिए दुआ करें।जब तक इस महामारी पर कंट्रोल नहीं हो जाता है तब तक सभी लोग अपने अपने घरों पर ही इबादत करें। बिना जरूरत घर से बाहर न निकले और लॉक डाउन का पालन करें। दरगाह आला हजरत से हुए ऐलान के बाद लोगों ने अपने अपने घरों में जोहर की नमाज अदा की और कोरोना वायरस से मुल्क की हिफाजत के लिए दुआ की।