किसानों का जत्था आज टिकरी बॉर्डर के लिए सिरसा से रवाना हुआ

0
13

सिरसा। (सतीश बांसल ) हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानूनों को वापिस लेने का ऐलान किया है, तभी से किसी दिल्ली बार्डरों की तरफ कूच कर रहे है। भारतीय किसान एकता के प्रदेशाध्यक्ष लखविंद्र सिंह के नेतृत्व में किसानों का जत्था आज टिकरी बॉर्डर के लिए सिरसा से रवाना हुआ। दिल्ली बोर्डर पर धरने का एक वर्ष पूरा होने पर किसान दिल्ली बोर्डर पर पहुंचेंगे और सरकार पर अन्य मांगों को मानने के लिए दबाव भी बनाएंगे। शाम तक किसान दिल्ली बोर्डर पर पहुंचेंगे और वहं कृषि कानून वापिस होने पर जश्न मनाएंगे। इस मौके पर भारतीय किसान एकता के प्रदेशाध्यक्ष लखविन्द्र सिंह ने कहा कि कृषि कानून रद्द करवाने के लिए किसानों ने एक साल तक दिल्ली बोर्डर पर संघर्ष किया है। आंदोलन के दबाव में सरकार ने तीनों कृषि कानून वापिस लेने का फैसला लिया है। कैबिनेट बैठक में भी मंजूरी मिल चुकी है। अब अन्य मांगों को मनवाने के लिए किसान दिल्ली जा रहे हैं। पिछले वर्ष भी 25 नवंबर को किसानांे ने दिल्ली कूच किया था लेकिन उस समय सरकार ने किसानों को रोकने के लिए बैरीगेट लगाए, सड़के पटवाई, किसानों पर लाठीचार्ज भी हुए लेकिन किसान दिल्ली पहुंचने में सफल रहे थे। लेकिन अबकी बार स्थिति अलग है और सरकार किसी तरह की रूकावट नहीं पैदा कर रही। संयुक्त मोर्चा के किसानों के दिल्ली पहुंचने की अपील पर कैबिनेट की बैठक बुलाई और कृषि कानून रद्द करने पर मोहर लगाई। अब केबिनेट की बैठक में कृषि कानून रद्द होंगे, जोकि किसानों की बड़ी जीत है। इसलिए उत्साहित किसान नाचते-गाते हुए दिल्ली कूच कर रहे हैं। इस मौके पर महासचिव गुरप्रीत गिल, प्रदेश सचिव गुरमीत नकौडा, राज्य कार्यकारिणी सदस्य दलजीत चहल, नवदीप सिधू, सरपंच कमलजीत कौर, रविंद्र गिल, कर्ण कंगनपुर, कपिल मेहता, अंग्रेज सिंह कोटली भी मौजूद थे।