किसान महापंचायत में लाखों लोगों की एकजुटता ने यह स्पष्ट कर दिया कि देश की जनता को तीनों काले कानून नहीं चाहिए– लखविंद्र सिंह

0
59

हरियाणा; सिरसा। मुजफ्फनगर में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वïान पर हुई किसान महापंचायत में लाखों लोगों की एकजुटता ने यह स्पष्ट कर दिया है कि देश की जनता को सरकार केकृषि संबंधी तीनों काले कानून नहीं चाहिए। इस ऐतिहासिक महापंचायत में देशभर से पहुंचे लाखों लोगों का उत्तरप्रदेश के लोगो ने दिल से स्वागत किया और उनके लिए लंगर व जलपान की व्यवस्था की, जिसके लिए देश का एक एक किसान उनका ऋणी रहेगा। भारतीय किसान एकता के प्रदेशाध्यक्ष लखविंद्र सिंह ने कहा कि इस ऐतिहासिक महापंचायत में पहुंचने का सिलसिला दो दिन पहले ही शुरू हो गया था। सिरसा व फतेहाबाद से भारतीय किसान एकता के नेतृत्व में हजारों किसानों का काफिला महापंचायत के लिए पहुंचा था। मुजफ्फनगर के हर एक शहरी ने अपने घर के द्वार किसानों के लिए खोले व उनके रहने की व्यवस्था की। मुजफ्फरनगर के लोगों ने ऐतिहासिक महापंचायत में शरीक होने पहुंचे सभी किसानों, मजदूरों व व्यापारियों सहित जन-जन के लिए प्रत्येक किलोमीटर के दायरे में सड़कों पर मिठाई, फल, शीतल पेयजल, चावल-हलवा, पुरी-छोले व लंगर की व्यवस्था की गई थी।इस महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा केसभी नेताओं ने पहुंचकर 27 सितंबर को भारत बंद का भी ऐलान किया है। लखविंद्र सिंह ने भारतीय किसान यूनियन(टिकैत) की पूरी टीम को सफल आयोजन हेतु बधाई दी। शहर में बड़ी-बड़ी स्क्रीनिंग व लाउड स्पीकर से इस महापंचायत का ऐतिहासिक प्रदर्शन किया गया। लखविंद्र सिंह ने कहा कि बीते दिनों करनाल में किसानों पर हुए लाठीचार्ज के मामले में संलप्ति एसडीएम करनाल व पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर 7 सितंबर को सिरसा से हजारों किसान करनाल केलिए रवाना होंगे और करनाल की अनाज मंडी में एकत्रित होकर लघुसचिवालय, करनाल का घेराव करेंगे।