केजरीवाल 16 फरवरी को यहां रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

0
28
UNA, Delhi Bureau

13th Feb.2020

शपथग्रहण समारोह में अन्य दलों के नेता और मुख्यमंत्री शामिल नहीं होंगे.

आम आदमी के प्रमुख नेता गोपाल राय ने बताया कि अरविन्द केजरीवाल 16 फरवरी को दिल्ली के रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। गोपाल राय आम आदमी पार्टी की दिल्ली इकाई के संयोजक भी हैं.

गोपाल राय ने कहा कि अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में किसी मुख्यमंत्री या अन्य राज्यों के नेताओं को आमंत्रित नहीं किया जाएगा। केजरीवाल 16 फरवरी को यहां रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

राय ने कहा, ‘‘ कोई मुख्यमंत्री या अन्य राज्यों के किसी नेता को इस समारोह में आमंत्रित नहीं किया जाएगा, यह केवल दिल्ली तक सीमित रहेगा।’’ उन्होंने कहा कि केजरीवाल दिल्ली के लोगों के बीच शपथ लेंगे, जिन्होंने उनके नेतृत्व में एक बार फिर विश्वास दिखाया है। गौरतलब है कि आठ फरवरी को हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप ने 70 में से 62 सीटों पर जीत हासिल की है और पार्टी यहां तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है। पुरानी टीम ही लेगी मंत्री पद की शपथ

तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे केजरीवाल ने देश की प्रमुख विपक्षी पार्टियों के नेताओं को ना बुलाकर आखिर क्या सन्देश देना चाहते हैं? राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि शपथ ग्रहण समारोह को मोदी विरोधी ना दिखाने के पीछे कहीं यह दर्शना तो नहीं कि अब वह मोदी सरकार के साथ सामंजस्य स्थापित कर सरकार चलाना चाहते हैं? या यह भी डर सता रहा है कि जिस विकास को दिखाकर केजरीवाल सत्ता में आये हैं, उसकी गति आपसी कलह में धीमी ना पड़ जाय. राजनितिक विश्लेषक यहां तक भी कह रहे हैं कि केजरीवाल का दक्षिणपंथ की ओर झुकाव भी बढ़ा है. चाहे वह धार्मिक तीर्थ यात्रा कराने का मामला हो या जय श्रीराम के बदले जय बजरंगबली का नारा, या शाहीनबाग पर चुप्पी, यह सब इसी दिशा की ओर संकेत कर रहे हैं. लेकिन जो भी हो केजरीवाल ने भाजपा के तमाम दिग्गजों को धुल चटाई है जनता ने केजरीवाल पर भरोसा जताया है.

Himmat Singh

Delhi Bureau Chief