कैमूर। सरकार से मिले लक्ष्य के अनुरूप एंटीजन व ट्रूनेट के माध्यम से आमजन की कोरोना की जांच कराने के मामले में राज्य से सराहना मिलने से उत्साहित स्वास्थ्य विभाग अब मतदाताओं व मतदान केंद्रों की सुरक्षा की कवायद शुरू कर दिया है।

0
144

कैमूर। सरकार से मिले लक्ष्य के अनुरूप एंटीजन व ट्रूनेट के माध्यम से आमजन की कोरोना की जांच कराने के मामले में राज्य से सराहना मिलने से उत्साहित स्वास्थ्य विभाग अब मतदाताओं व मतदान केंद्रों की सुरक्षा की कवायद शुरू कर दिया है। जिले के 1694 मतदान केंद्रों पर संबंद्ध मतदाताओं की संख्या के अनुसार थर्मल स्क्रीनर, सैनिटाइजर, ग्लब्स व मास्क आदि उपलब्ध कराने के बाद जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों से जुड़ी कुल 1498 आशा को बायोवेस्ट के निष्पादन व मतदाताओं की स्क्रीनिग करने का प्रखंडवार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। चांद पीएचसी के प्रशिक्षण से लौटे डीपीएम धनंजय शर्मा ने बताया कि प्रशिक्षण के दौरान आशा कार्यकर्ताओं को मतदाताओं व कर्मियों द्वारा उपयोग किए गए बायोवेस्ट से भरे थैले को मतदान के बाद रूट ट्रैक्टर के माध्यम से पीएचसी तक भेजवाने की जिम्मेदारी दी गई है। पीएचसी प्रभारी बायावेस्ट को नष्ट करने के लिए निर्धारित स्थल तक भेजवाने की व्यवस्था करेंगे। इस आशय का उन्हें शपथ पत्र भी देना होगा। केंद्र पर एक दिन पूर्व जाकर आशा यह सुनिश्चित करेंगी कि उनके मतदान केंद्र को सैनिटाइज किया गया कि नहीं। न होने की स्थिति में पीएचसी प्रभारी से वार्ता कर शीघ्र व्यवस्था कराई जाएगी। जिन स्थानों पर आशा नहीं होंगी वहां यह कार्य संबंधित क्षेत्र के आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका से कराया जाएगा। कार्य में समन्वय क्षेत्र की एएनएम करती रहेगी। इसलिए उन्हें भी प्रशिक्षण में शामिल किया गया है। इस कार्य को सफल बनाने के लिए संबंधित नोडल पदाधिकारियों को पर्यवेक्षण करते रहने का निर्देश दिया गया है। मतदाता व मतदान कर्मियों की कोरोना से सुरक्षा से जुड़े इस कार्य में कोताही करने पर कार्रवाई की जाएगी।