कैमूर की अदालत ने हत्यारा पति को 10 वर्ष की सश्रम कारावास की सजा मुकर्रर किया

0
13

UNA NEWS
KAIMUR BUREAU
भभुआ -एक दहेज हत्याकांड मामले को लेकर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने हत्यारे पति को 10 वर्ष की सश्रम कारावास की सजा मुकर्रर किया है। यह मामला 2017 का है जहां चांद थाना के शैलपुरी जैदपुर गांव निवासी घासी प्रसाद की बेटी रिंकी देवी को उसके पति और ससुराल वालों ने जिंदा जलाकर हत्या कर दी थी। रिंकि की शादी 18 मई 2014 को हिंदू रीति रिवाज के अनुसार चांद थाना के बीरभानपुर गांव निवासी झेंगाट शाह के पुत्र दिनेश शाह के साथ संपन्न हुई थी। शादी में सोने का चेन और मोटरसाइकिल नहीं मिलने के कारण रिंकि को पति सहित ससुराल वाले प्रतिदिन प्रताड़ित करते थे। 5 दिसंबर 2017 को रिंकी को उसके ससुराल वालों ने संयुक्त रूप से मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगाकर मौत के घाट उतार दिया। रिंकी देवी हत्याकांड में 5 लोगों को अभियुक्त बनाया गया था। जिसमें अदालत ने साक्ष्य के अभाव में 4 लोगों को रिहा कर दिया। अपर जिला एवं सत्र न्यायालय 09 के न्यायधीश प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने दहेज हत्या कांड में दिनेश शाह को दोषी करार होने पर धार भादवि 304 (बी) के तहत 10 वर्ष की सश्रम कारावास की सजा मुकर्रर किया। उक्त कांड में 5 लोगों में चार लोगों को रिहा करने का आदेश भी जारी किया। मुकदमे का पर भी सरकार के ऊपर लोग विशेष अभियोजक संजय कुमार शर्मा ने भाग लिया। हत्यारोपी पति को सजा भुगतान हेतु मंडल कारा भेज दिया गया।