कैमूर के चफना गांव में योगेंदर ने बच्चों को शिक्षा दान करने का लिया संकल्प

0
15

कैमूर( ब्यूरो चीफ राम नारायण सिंह )कैमूर जिला के अधौरा प्रखंड के चफना गांव में शिक्षा का दीप जलाते योगेंद्र प्रसाद जो पैर से विकलांग है ।रोहतास जिला के नौहटा प्रखंड दारानगर के रहने वाले हैं इन्होंने पूर्व में विद्यालय में प्रधानाध्यापक के पद पर थे परंतु इन्हें कुछ बातों से अपमान लगा जिसको लेकर जेम्स छोड़ चफना गांव में बच्चों को शिक्षा देने का संकल्प लिया
छात्र फुल कुमारी, कौशल्या कुमारी, राधिका कुमारी, मुकेश कुमार ,विनय लाल, आदि छात्र-छात्राओं ने शिक्षक की महानता पर प्रशंसा व्यक्त करते हुए कहा कि पठन-पाठन कार्य से हम लोग संतुष्ट है और मुझे काफी अनुभव मिला है
छात्रों ने कहा कि हमारे गांव में विद्यालय तो स्थापित हैं परंतु शिक्षक नहीं रहने के कारण हम लोगों की पढ़ाई एवं भविष्य अंधकार में चला गया है वर्तमान में अभी हम लोगों को योगेंदर सर के माध्यम से कुछ गुण सीखने को मिल रहा है शिक्षक योगेंद्र प्रसाद ने कहा कि मैं सुबह और शाम को दो-दो घंटे बच्चों को पठन-पाठन कराते हैं यह गांव काफी दुर्गम इलाका में अवस्थित है जहां पर सरकार के भव्य भवन एवं 8 शिक्षक पदस्थापित हैं एक भी शिक्षक विद्यालय पठन-पाठन बच्चों को कराने नहीं पहुंचते ।जिससे अजीज होकर ग्रामीण अपने बच्चे को भविष्य सवारने के लिए प्राइवेट शिक्षित विकलांग योगेंद्र को ढूंढ लाए इनका सेवा करते हैं और इनसे शिक्षा ग्रहण लेते हैं शिक्षक को काफी मेहनत से ढूंढ कर ग्रामीण अपने गांव लाए हैं बदले में ग्रामीण शिक्षकों को सेवा करते हैं और उनसे अपने बच्चों को शिक्षित करवाते हैं