कैमूर में पर्यावरण के बचाव के लिए डॉ सीमा पटेल ने दतियाव गांव में बुलंद की आवाज

0
36
(कैमूर अधौरा ब्यूरो चीफ) राम नारायण सिंह
कैमूर जिला मुख्यालय से सटे दतियाव गांव निवासी डॉ सीमा पटेल ने गांव में पर्यावरण को शुद्ध बताबरण  बनाए रखने के लिए मुहिम चलाई है जिस क्रम में डॉ सीमा पटेल के नेतृत्व में गांव में बने तालाबों के अतिक्रमण हटाने के लिए जिला प्रशासन कैमूर से गुहार भी लगा चुकी है उन्होंने कहा कि गांव में तीन तलाब है जो आजअतिक्रमण का शिकार हो गया है चुनाव के दौरान तलाब भूमी में रसीद  भी काट दी गई है इस आवाज को ग्रामीण उठाते हैं परंतु इसका जमीनी तौर पर कुछ नहीं सुनवाई होता है  तलाब के लिए  तो मैं स्वयम डीएम से  मिली हर डीएम ने मुझे विमर्श करने को कहा क्या विमर्श करें इस प्रकार का अतिक्रमण केवल सारण दतिया गांव की तलाब  की नहीं है बल्कि जिला के हर गांव में आपको देखने को मिलेगा
 डा सीमा पटेल ने सडक की समस्या पर कहा कि  गांव तक जाने वाली सड़क 12 वर्षों से जर्जर स्थिति में पड़ा है इस पर सरकार का ध्यान आकृष्ट नहीं हो पाता इस सड़क मरम्मत के लिए विधायक मंत्री से आवाज को उठाया जाता है किंतु आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिलता
 इन्होंने स्वच्छ ग्राम इस सवाल पर कहा कि सरकार द्वारा तो शौचालय बनाने का काम  किया गया है किंतु आज भी सड़क के किनारे  बताबरण  लोग  दूषित कर देते है इन्होंने ग्रामीण जनता को शुद्ध वातावरण बनाने के लिए जिम्मेदार ठहराई डॉक्टर सीमा पटेल बिहार से जाने-माने पटेल महाविद्यालय भभुआ में आचार्य के पद पर कार्यरत हैं जो जिला मुख्यालय से सटे दतिया गांव में रहती है सीमा पटेल से एक खास बातचीत में यह कथन सामने आया है
Attachments area