किसानों की मौत छिपाती और सैनिकों की मौत भुनाती दिखावटी राष्ट्रवाद है,

मोदी सरकाररामनारायण मीणा

 

जवान किसान दोनो की अनदेखी कि है मोदी सराकर नेमीणा

 

कोटा। किसी भी देश के सबसे महत्वपूर्ण पहलू उसके जवान व किसान होते है। कांग्रेस के समय सदैव जवानों और किसानों के हित के काम किए है। प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने ही जय जवान—जय किसान का नारा दिया था। परन्तु मोदी सरकार ने जवान व किसान की ही अनदेखी की है। एक और मोदी के राज में सर्वाधिक जवान शहीद हुए है। 2014 में 12360 किसानों एवं कृषि श्रमिकों ने आत्महत्या की जबकि वर्ष 2015 में यह आंकड़ा 12602 था वर्ष 2016 के लिये राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक 11370 किसान एवं कृषि श्रमिकों के आत्महत्या की बात सामने आई है। इसके बाद के आकड़े मोदी सरकार ने पेश नही किये। किसानों की आय दुगनी करने वालो ने उनकी मृत्यु की संख्या में ईजाफा कर दिया है,अगर यही हालात रहे तो आने वाली पीढ़ी किसानी नहीं करेगी। यह बात कांग्रेस प्रत्याक्षी रामनारायण मीणा ने सांगोद विधानसभा क्षेत्र में पोलाई एवं दिगोद में आयोजित जनसभा में कही। उन्होने कहा कि राज्य में किसानों की समस्या कोई होती है तो मौजूदा सांसद मात्र दिल्ली पत्र लिख कर अपने दायित्व की पूर्ति कर लेते है।

उन्होन मोदी सरकार पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि किसानों की मौत छिपाता और सैनिकों की मौत भुनाता दिखावटी राष्ट्रवाद भाजपा सरकार कर रही है। मोदी सरकार जवानों की शहादत को भी चुनावी लाभ के लिए भुनाने में कोई कसर नहीं छोड रही है। सैनिकों की मौत पर घड़ियाली आंसू बहाना और बात-बात पर युद्ध की बात करना- देख लेना और दिखा देना ही राष्ट्रवाद की असली निशानी रह गया है। ऐसा लग रहा है कि यह चुनाव देश की जनता के मुद्दे हल करने के लिए सरकार चुनने की बजाय मात्र पाकिस्तान को सबक सिखाने वाली सरकार चुनने के लिए हो रहा है। रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य जैसे जरूरी मुद्दों पर गौण करने के लिए मोदी सरकार ने यह दाव खेला है। 2018 मानव विकास इंडेक्स में 189 देशों में भारत 130वें और पाकिस्तान 150वें स्थान पर है,जो इस थोथे राष्ट्रवाद की देन है।

मोदी सरकार के कार्यकाल में आतंकवादी 12 बार बड़े हमले कर चुके हैं,अब तक सैकड़ो जवान की शहादत हो चुकी है। सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार बॉर्डर पर आंतकवाद व पाकिस्तान को करारा जवाब देने की बात करते है परन्तु मोदी सरकार में सीजफायर उल्लंघन एवं घुसपैठ की घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है। उन्होने कहा कि एक आर टी आई के खुलासे मे कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में सीजफायर वॉयलेशन और क्रॉस बॉर्डर फायरिंग में कांग्रेस के मुकाबले मोदी सरकार में 4 गुना ज्यादा जवान शहीद हुए। मीणा ने सांगोद विधानसभा क्षेत्र के पोलाई,मूंडला,कोटसुवां, नीमोदा,डूंगरज्या, दीगोद,सीमलिया, भौरा,गड़ेपान,बम्बोरी,सारौला,अमरपुरा,खडिया,बपावर,लबानियां,माईकलां,बालूहेड़ा,झालरी,कमोलर क्षेत्र में जनसम्पर्क कर कांग्रेस के लिए अधिक से अधिक मतदान की अपील की।