कोलकाता, विशेषज्ञों का कहना है कि वायु प्रदूषण से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ सकता है

0
201

कोलकाता, विशेषज्ञों का कहना है कि वायु प्रदूषण से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ सकता है। इस कारण लोग इस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। ऐसे में संभावना है कि कोविड-19 की स्थिति और भी गंभीर हो सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि जो लोग पूर्व में इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं, उन्हें भी नई चुनौतियों का सामना प्रदूषण के कारण करना पड़ सकता है।
प्रदूषण को लेकर के इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.राजन शर्मा, पूर्व अध्यक्ष डॉ .शांतनु सेन, आइएमए के सचिव डॉ वी अशोकन ने लोगों को विशेष सतर्क रहने की सलाह दी है। साथ ही ठोस उपाय अपनाए जाने की अपील की गई है। आइएमए कोलकाता दक्षिण शाखा के अध्यक्ष डॉ. आरडी दुबे ने कहा कि दरअसल वर्तमान समय में लोगों को विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है।
अचानक तापमान में गिरावट से मौसमी बीमारियां भी बढ़ेंगी
अचानक तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है, ऐसे में मौसमी बीमारियां भी बढ़ेंगी। जरूरत है कि लोग किसी प्रकार का लक्षण होने पर डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। प्रदूषण का स्तर बढ़ने से वायरल इनफ्लुएंजा जैसी सांस की बीमारियां बढ़ सकती हैं। खराब वायु गुणवत्ता के कारण फेफड़ों में सूजन भी आ जाती है। इससे वायरस से संक्रमित होने की आशंका बढ़ रही है। सामान्य सर्दी जुकाम की तरह प्रदूषण का स्तर बढ़ने से इस वायरस का संक्रमण बढ़ने की आशंका आइएमए ने जताई है। वरिष्ठ फिजिशियन डॉक्टर दीपक कपूर ने कहा कि फिलहाल कोरोना वायरस के नेचर को समझना काफी मुश्किल हो रहा है। ऐसे में जरूरत है कि लोग विशेष सतर्क रहें। इससे ही हम इसका मुकाबला कर सकेंगे। हम वास्तव में नहीं जानते कि यह वायरस कैसे व्यवहार करने वाला है। प्रदूषण स्तर बढ़ने और सर्दियां आने से, हमें खुद को संभल कर रहना होगा।(UNA)