कोलकाता सहित ये जिले सबसे अधिक होंगे प्रभावित

0
8
कोलकाताः अत्यंत विकराल चक्रवात ‘अम्फान’ सोमवार को महाचक्रवात में बदल गया। दो दशक में बंगाल की खाड़ी में यह ऐसा दूसरा प्रचंड चक्रवाती तूफान है। चक्रवात उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी की तरफ बढ़ सकता है। यह 20 मई को दीघा और हटिया द्वीप के बीच पश्चिम बंगाल और बांग्लादेशीय तटों को पार करेगा। यह 250 किमी के स्पीड से बंगाल की ओर बढ़ रहा है। इस बारे में मौसम विभाग की माने तो यह कोलकाता में बुधवार की दोपहर या शाम तक आ जाएगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की जिसमें बंगाल की खाड़ी में उत्पन्न हो रहे चक्रवात ‘अम्फान’ को देखते हुए तैयारियों का जायजा लिया गया।
तूफान से पश्चिम बंगाल के 24 उत्तर और दक्षिण परगना, कोलकाता, पूर्व और पश्चिमी मिदनापुर, हावड़ा और हुगली में तेज बारिश हो सकती है। वहीं ओडिशा में गजपति, गंजाम, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भ्रदक, मयूरभंज, झुमपुरा, सहारपाड़ा और क्योंझर जिले में अलर्ट जारी किया गया है।इस बीच ओडिशा सरकार ने केंद्र से 18 मई से तीन दिन के लिए विशेष श्रमिक ट्रेनें न चलाने का अनुरोध किया है।दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की 17 टीमें तैनात तूफान को देखते हुए एनडीआरएफ की 10 टीमें पश्चिम बंगाल में और 7 टीमें ओडिशा में तैनात की गई हैं। एनडीआरएफ के डायरेक्टर जनरल एसएन प्रधान ने बताया कि ओडिशा में इन टीमों को 7 जिलों में जबकि बंगाल के 6 जिलों में भेजा गया है। 10 टीमों को स्टैंडबाय रखा गया है। हम स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। 21 सदस्यों वाली एक टीम को पारादीप में भी तैनात किया गया है। टीम के सदस्य कटर, बोट चेन और राहत और बचाव कार्य के लिए जरूरी सभी सामान के साथ पहुंचे हैं।