कोलकाता, । कोरोना महामारी के बीच संपन्न हुए गंगासागर मेले के 31 देशों में रह रहे हिंदुओं ने ई-दर्शन किए। इनमें अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन, इंडोनेशिया, बुल्गारिया, रोमानिया, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल, भूटान, युगांडा, बांग्लादेश समेत विभिन्न देशों के हिंदू निवासी शामिल हैं।

0
21

कोलकाता, । कोरोना महामारी के बीच संपन्न हुए गंगासागर मेले के 31 देशों में रह रहे हिंदुओं ने ई-दर्शन किए। इनमें अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन, इंडोनेशिया, बुल्गारिया, रोमानिया, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल, भूटान, युगांडा, बांग्लादेश समेत विभिन्न देशों के हिंदू निवासी शामिल हैं। जल्द ही अमेरिका, इंग्लैंड, रोमानिया, इंडोनेशिया, श्रीलंका, बांग्लादेश समेत आठ देशों में ई-स्नान किट भी भेजे जाएंगे। कोरोना के मद्देनजर बंगाल सरकार ने हैम रेडियो के सहयोग से यह अभूतपूर्व व्यवस्था की थी। हैम रेडियो वेस्ट बंगाल रेडियो क्लब ने अपने सैटेलाइट नेटवर्क के जरिए विभिन्न देशों के हैम रेडियो ऑपरेटरों से संपर्क साधा और उन्हें गंगासागर मेले के बारे में जानकारी देते हुए इसके ई-दर्शन संबंधी सारे वेब लिंक भेजे और उनके यहां रह रहे हिंदू समुदाय के लोगों व वहां के मूल नागरिकों के बीच इसका प्रचार-प्रसार करने का अनुरोध किया।

अपनी टीम के साथ गंगासागर से इस अभियान की अगुआई करने वाले हैम रेडियो वेस्ट बंगाल रेडियो क्लब के सचिव अंबरीश नाग विश्वास ने बताया-‘हमें दुनियाभर से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली। बहुत से देशों में रह रहे हिंदुओं को गंगासागर मेले के बारे में पता ही नहीं था। वे यह जानकर आश्चर्यचकित थे कि एक एक छोटे से द्वीप में इतने विशाल धार्मिक मेले का दशकों से आयोजन होता आ रहा है। इसी का नतीजा है कि अब विभिन्न देशों में रह रहे हिंदू ई-स्नान किट की मांग कर रहे हैं। हम कोलकाता व दिल्ली में स्थित आठ देशों के दूतावासों के जरिए उनके यहां ई-स्नान के किट भिजवाएंगे।’
विश्वास ने कहा-‘इस अभियान में इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ हैम, नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ अमेचर रेडियो और इंडियन एकेडमी ऑफ कम्युनिकेशन एंड डिजास्टर मैनेजमेंट ने हमारा सहयोग किया। इसी तरह केंद्रीय संचार मंत्रालय के सहायक वायरलेस सलाहकार ओंकारनाथ यादव ने भी हमारी काफी मदद की। बंगाल सरकार के आंकड़ों के मुताबिक इस साल 73 लाख से अधिक लोगों ने गंगासागर मेले के ई-दर्शन किए जबकि 2,12,500 लोगों ने ई-स्नान किया।