क्रिसमस त्योहार के अवसर पर 25 दिसम्बर के पूर्व खाद्य सामग्री सरकारी रेट पर बेचने का आग्रह

0
334

जनाधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा है कि वह जल्द ही लोजपा ऑफिस के सामने भी प्याज बेचेंगे. पप्पू यादव हाल में पटना में बाढ़ जैसे हालात के दौरान भी सक्रिय दिखे थे. अब वह महंगाई के मोर्चे पर सरकार को घेरने में लगे हैं.

पटना,5 दिसम्बर. एक फिल्मी गाना है कि तेरे घर के सामने एक घर बनाऊंगा..इसी तर्ज पर जनाधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने तेरे घर के सामने ठेला लगाकर प्याज बेचूंगा..कार्य शुरूकर सत्ताधारी नेताओं को नैतिकता का पाठ पढ़ा हैं.

जी हां प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर राजनीति जारी है. जनाधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने वृहस्पतिवार को बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के आवास के बाहर ठेला लगाकर प्याज बेंचे. इससे पहले वह बिहार की राजधानी पटना में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) दफ्तर के बाहर 35 रुपये किलो प्याज बेच चुके हैं.

बताते चले कि पप्पू यादव ने मंगलवार को बीजेपी दफ्तर के बाहर प्याज बेचा था. उनका यह अनोखा विरोध प्याज की जमाखोरी और महंगाई के खिलाफ है. पप्पू यादव ने कहा कि हरेक गरीब परिवार जिसकी आय 3 लाख से कम और उनके घर में शादी-ब्याह है तो 35 रुपये की लगात से 10 किलो प्याज उपलब्ध कराएंगे.

पप्पू यादव ने सिर्फ पटना में ही नहीं बल्कि झारखंड चुनाव में भी प्याज को मुद्दा बनाया है. उन्होंने बुधवार को जमशेदपुर पश्चिम में पूर्व मंत्री और निर्दलीय उम्मीदवर सरयू राय का चुनाव प्रचार गले में प्याज की माला डाल कर किया. सरयू राय झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं.

पप्पू यादव की इस मुहिम के पीछे सिर्फ एक मकसद दिखता है सरकार को आईना दिखाना. उनका कहना है कि जब वो 35 रुपये किलो प्याज लोगों तक पहुंचा सकते हैं तो फिर सरकार क्यों नहीं. केंद्र और बिहार सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार जमाखोरों से मिली हुई. इसलिए प्याज की कीमत 100 पार जा रही है. हालांकि सत्ताधारी बीजेपी और जेडीयू पप्पू यादव की इस मुहिम को राजनैतिक स्टंट बता रही हैं. सरकार भी इसे गंभीरता से नहीं ले रही है. लेकिन लोगों को जब सस्ती दरों पर प्याज मिल रही है तो उन्हें जरूर राहत मिल रही है.

सत्ताधारी नेताओं का कहना है कि प्याज की कीमत बढ़ने का कारण उत्पादन का कम होना. सरकार इसे नियंत्रित करने में लगी है, लेकिन पप्पू यादव कहां से सस्ता प्याज लाते हैं ये उन्हें बताना चाहिए ताकि सरकार भी ऐसी व्यवस्था कर सके. यदि वो ऊंचे दामों पर प्याज खरीद कर सस्ते में बेचते हैं तो पैसा कहां से लाते हैं, ये भी उन्हें बताना चाहिए. पप्पू यादव प्याज पर राजनीति कर रहे हैं.

बहरहाल, पप्पू यादव ने वृहस्पतिवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के राजेंद्रनगर स्थित आवास के बाहर प्याज का ठेला लगाने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा है कि वो वहां 35 रुपये किलो प्याज बेचेंगे. ये वही राजेंद्र नगर है जहां जलजमाव की वजह से सुशील कुमार मोदी अपने आवास में तीन दिनों तक फंसे रहे और पप्पू यादव ने घर-घर जाकर राहत पहुंचाई थी.

बिहार में प्याज की कीमतों को लेकर सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर भी है. जेल में बंद लालू प्रसाद  ने भी प्याज की बढ़ती कीमतों पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी. लालू ने अपने अंदाज में प्याज की तुलना अनार से की है और एक साथ केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को निशाना बनाया था. लालू ने लिखा था मोदी-पासवान-नीतीश राज में फिर..पिअजवा अनार हो गईल बा…

इस बीच नवगठित क्रिश्चियन वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव सुशील लोबो ने एक बयान जारी कर क्रिसमस के त्योहार के अवसर पर 25 दिसम्बर के पूर्व प्याज, मैदा,सूजी,चीनी,पॉम आयल आदि खाद्य सामग्री सरकारी रेट पर बेचने का आदेश निर्गत करने का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से किया है. कुर्जी के प्रेरितों की रानी ईश गिरजाद्यर के परिसर मे, न्यू पाटलिपुत्र चर्च परिसर, एक्सटीटीआई के परिसर में व्यवस्था की जा सकती है.