गऊसेवक रामनिवास अग्रवाल को अग्रवाल वैश्य समाज द्वारा सम्मानित किया गया

0
49

सिरसा, , 27 जनवरी।।(सतीश बंसल) नि:स्वार्थ भाव से गऊसेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले भिवानी के गऊसेवक रामनिवास अग्रवाल को आज अग्रवाल वैश्य समाज द्वारा सम्मानित किया गया। समाज के प्रदेश अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला ने आज उनके निवास स्थान पर जाकर गऊमाता का स्मृति चिंह व शॉल ओढ़ाकर उनका अभिनंदन किया। इस अवसर पर अमन गुप्ता व प्रदेश मंत्री मुकेश बंसल भी उपस्थित रहें। इस मौके पर बुवानीवाला ने कहा कि गऊ सेवा भारतीय परम्परा का हिस्सा रही है। हमारे धर्म में गऊ को माता का दर्जा दिया गया है। आज भी हमारे घरों में गाय की रोटी रखी जाती है। बुवानीवाला ने कहा कि रामनिवास जी ने पिछले 25 वर्षों से निरंतर गऊसेवा कर रहे हैं। सन् 2005 में ओवरब्रिज लोहारू रोड़ भिवानी के पास द्वारकाधीश गौशाला स्थापित की। अपना पूरा समय गौशाला को देते हुए रामनिवास जी तन-मन-धन से उस गौशाला की संभाल कर रहे हैं। आज गौशाला में 800 गौवंश है। गौवंश के लिए दलिया, गुड़, हरा-चरा व गौशाला के कर्मियों के लिए सभी आर्थिक व्यवस्था रामनिवास जी अपने बूते पर व नगर के दानी सज्जनों की सहायता से बिना किसी सरकारी मदद के करते हैं। उनके प्रयासों से आज पूरे हरियाणा प्रांत में यह ऐसी गौशाला है जहां प्रतिदिन सुबह 7 बजे गौवंश को हरा-चारा डाल दिया जाता है। छोटी काशी के लिए ये सौभाग्य की बात है कि रामनिवास जी जैसे गऊसेवी 74 वर्ष की आयु में भी सुबह से शाम तक अपना सर्वस्व गौवंश पर न्यौछावर करते हैं। इस मौके पर गऊसेवक रामनिवास अग्रवाल ने अग्रवाल वैश्य समाज का आभार जताते हुए कहा कि ये बहुत ही दु:खद है कि आज लोग गाय को आवारा भटकने के लिए बाजारों में छोड़ देते है। उन्हें इनके भूख प्यास की कोई चिंता ही नहीं होती। लोगों को चाहिए की यदि गाय पालने का शौक है तो उनकी देखभाल भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि सभी व्यक्ति गौशालाओं में बढ़ चढक़र अपना योगदान दें और पुण्य के भागी बने, क्योंकि गऊ माता में 33 कोटि देवी देवताओं का वास होता है। रामनिवास अग्रवाल ने कहा कि गाय हमारी माता है एवं गौ रक्षा करना हमारा परम कर्तव्य है।