गांव ने संगठित होकर काफी हद तक नशे के चल रहे खुले व्यापार को रोकने में अंकुश लगाया

1
60

सिरसा 10 जनवरी (सतीश बांसल ) -गांव ने संगठित होकर काफी हद तक नशे के चल रहे खुले व्यापार को रोकने में अंकुश लगाया है। सनद रहे गांव में नशा के खिलाफ पिछले तीन वर्षों से रूक रूक कर जन जागरण अभियान चलाया जाता रहा है। गांव की खुली पंचायत में गांव ने निर्णय लिया था कि नशा का कारोबार करने वाले कोई भी व्यक्ति की ; कोई भी पंच ,गांव का वकील अथवा कोई भी आदमी पैरवी नहीं करेगा ना ही कोर्ट में जमानत करवायेगा। जो ऐसा करेगा उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। और इसका प्रभाव देखने को मिला है। अब पंचायत व कमेटी आस पड़ोस के इलाके में जो नशा सप्लाई हो रहा है उसको लेकर चिंतित हैं। इसीलिए पुलिस व प्रशासन के उच्च अधिकारियों से मिलकर इस हालात से निपटने के लिए सहायता मांगी जायेगी। साथ ही आज इस बात का चिंतन किया गया कि जो युवा रास्ता भटक कर नशा की दलदल में अपने को धकेल दिया है, उन्हें वापिस जीवन की मुख्यधारा में कैसे लाया जावे। और उनको किस रूप में सहायता दी जावे।

पंचायत एवं कमेटी के पूर्व पारित प्रस्ताव अनुसार गांव एवं हरियाणा की मुख्य राजनैतिक हस्तियों से मुलाकात करके उन्हें इस विषय पर पूरी जानकारी देने एवं उनका सहयोग प्राप्त करने हेतु उनसे निवेदन किया जायेगा। आज की बैठक में पूर्व सरपंच आत्माराम छिपा, पूर्व सरपंच कृष्ण लाल विश्नोई, पूर्व उप सरपंच प्रेमकुमार सिहाग, पूर्व मैम्बर मनफूल राम स्वामी,पूर्व मैनेजर मनफूल राम कालिरावण, पूर्व पंचायत समिति सदस्य पालाराम सहारण,पूर्व अध्यापक कुलदीप सिंह जाखड़, कमेटी सदस्य राजेंद्र कुमार कालिरावण , रामपाल विश्नोई ,भाई प्रदीप गोदारा, भोजराज स्वामी सहित अन्य ग्रामीण उपस्थित रहे

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here