चेन्नै 3 साल पहले आय से अधिक संपत्ति के मामले में जेल जाने से पहले वीके शशिकला ने जयललिता की समाधि पर जोर-जोर से तीन बार हाथ मारा था।

12
291

चेन्नै
3 साल पहले आय से अधिक संपत्ति के मामले में जेल जाने से पहले वीके शशिकला ने जयललिता की समाधि पर जोर-जोर से तीन बार हाथ मारा था। तब यह कहा गया था कि शशिकला ने यह शपथ ली है कि जेल से बाहर आने के बाद तमिलनाडु की राजनीति में आकर वह जयललिता की विरासत संभालेंगी।

अब शशिकला जेल से रिहा हो गई हैं। खराब सेहत के कारण उन्हें जल्द रिहा कर दिया गया है। उनकी रिहाई से तमिलनाडु की राजनीति में हलचल मचना लाजिमी है। अब सबकी जुबां पर एक ही सवाल है कि क्या मौजूदा परिस्थितियों में शशिकला की रिहाई तमिलनाडु की राजनीति में कुछ असर डाल सकती है?

‘जयललिता को अम्मा बनाने में शशिकला का अहम हाथ’ तमिलनाडु राजनीति के विश्लेषक एम. वेंकटेंशन का कहना है कि इसमें दो राय नहीं है कि शशिकला का तमिलनाडु की राजनीति पर का काफी असर था, असर रहेगा। जयललिता को राजनीति में अम्मा बनाने में शशिकला का अहम हाथ रहा है।

जयललिता को बेहतर राजनीतिक प्रबंधन के जाना जाता था। इसमें भी शशिकला की अहम भूमिका रही। उनका अपना वोट बैंक हैं लेकिन जयललिता की मौत को लेकर शशिकला पर काफी आरोप लगते रहे हैं। ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि शशिकला, खुद को इन सब बातों के बीच तमिलनाडु की राजनीति में किस तरह से पेश करती है।
क्या वह खुद को जयललिता की वारिस के रूप में प्रोजेक्ट कर चुनाव में आती है या फिर अपना नया वजूद सामने पेश करेगी पर यह तय है कि शशिकला के आने से तमिलनाडु की राजनीति पर असर तो पड़ेगा ही। शशिकला के निशाने पर कौन?
शशिकला के जेल जाने के बाद उनके भतीजे टीटीवी दिनाकरन ने अम्मा माकल मुनेत्रा करगम (एएमएमके) की कमान संभाल ली थी। अब इस पार्टी का वोट प्रतिशत पांच से छह प्रतिशत के बीच है। राजनीति विश्लेषक एस.के. सुरेश के अनुसार शशिकला के आने से एआईडीएमके और बीजेपी के वोट बैंक में दोहरी चोट लगेगी। शशिकला का पूरे अटैक एआईएडीएमके के प्रमुख व तमिलनाडg के मुख्यमंत्री पलानी सामी पर रहेगा। जिस तरह से जयललिता के सबसे करीब पन्नीर सैल्वम थे, उसी तरह से शशिकला के सबसे विश्वनसीय पलानी सामी थे मगर बाद में पलानी सामी ने बीजेपी से हाथ मिला लिया और मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठ गए। शशिकला भूली नहीं होगी।

पलानीसामी को कहा था विश्वासघाती
जेल जाते समय शशिकला ने पलानी सामी को विश्वासघाती तक कह डाला था, क्योंकि जयललिता की मौत के बाद जब पार्टी की मीटिंग हुई तो पलानी सामी ने ही पार्टी प्रमुख के लिए शशिकला के नाम का अनुमोदन किया था, जिसका पन्नीर सेल्वम ने समर्थन किया था। बाद में दोनों ने उससे मुंह फेर लिया। ऐसे में शशिकला निश्चित तौर पर राजनीति की मैदान में जयललिता के नाम के साथ पलानीसामी के विश्वासघाती रूप को लेकर वार करने से पीछे नहीं हटेगी। एआईएडीएमके और बीजेपी पर दोहरी मार!

एसके सुरेश के अनुसार सुपरस्टार रजनीकांत ने चुनावी मैदान से अपना नाम पीछे खींच लिया है। बीजेपी की राजनीति रजनीकांत के सहारे डीएमके के वोट काटने की थी। अब जबकि शशिकला फिर से चुनावी मैदान में आने वाली है तो एआईएडीएमके और बीजेपी पर यह दोहरी मार होगी। पहली मार, रजनीकांत के सहारे डीएमके के वोट काटने का रास्ता बंद हो चुका है। दूसरी मार, शशिकला एआईएडीएमके वोट काटने में सफल हो सकती है। अगर शशिकला एआईडीएमके के पांच फीसदी वोट भी काटने में सफल रही तो एआईएडीएमके को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। एआईडीएमके की रणनीति

शशिकला की रिहाई के बाद बीजेपी व एआईएडीएमके नेताओं की बीच बैठकों का दौर शुरु हो चुका है। वोट फीसदी किस तरह से बढ़ाई जाए, इस पर चर्चाएं शुरु हो चुकी हैं। कई विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। एक विकल्प है कि छोटी-छोटी पार्टियों से गठबंधन किया जाए ताकि वोटों में बिखराव को रोका जा सकें।

दूसरा विकल्प है कि दिनाकरन की पार्टियों के मजबूत नेताओं को एआईएडीएमके में आने का निमंत्रण दिया जाए। एआईएडीएम के एक सीनियर नेता का कहना है कि अंतिम फैसला जल्द ही लिया जाएगा, क्योंकि अब राज्य विधानसभा की चुनावों की तैयारी भी करनी है।
पलानीसामी पर व्यक्तिगत अटैक का ज्यादा फायदा नहीं
राजनीतिक विश्लेषक राज गोपालन का मानना है कि शशिकला का राजनीतिक भविष्य अब इस बात पर निर्भर करेगा कि वह राजनीति में खुद को किस तरह से पेश करती है। किन मुद्दों को वह चुनावी मुद्दा बनाती है। पलानी सामी पर व्यक्तिगत अटैक करने से फायदा होगा, मगर ज्यादा नहीं। ऐसे में उसे राज्य की आर्थिक व सामाजिक मुद्दों को उठाना होगा।

जयललिता की तरह लोग उनको एक मजबूत व जिद्दी राजनेता के रूप से मानते हैं। क्या वह इस रूप को बरकरार रखेगी ? इन सवालों का जवाब तो वक्त देगा, मगर एक बात तो है कि उसके आलोचक व समर्थक दोनों को शशिकला का चुनावी समर में आने का इंतजार तो होगा।
शशिकला को अस्पताल से मिली छुट्टी
AIADMK से निष्कासित नेता वी के शशिकला को अस्पताल से रविवार को छुट्टी दे दी गई। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। शशिकला को आय से अधिक संपत्ति के मामले में चार वर्ष कैद की सजा पूरी करने के बाद बुधवार को जेल से रिहा कर दिया गया था।

उनके नजदीकी सूत्रों ने बताया कि शशिकला के परिवार ने उन्हें चेन्नै ले जाने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि अस्पताल ने उन्हें कुछ और दिन आईसोलेशन में रहने की सलाह दी है।

अप्रैल-मई में होने हैं चुनाव तमिलनाडु की पूर्व सीएम दिवंगत जयललिता की करीबी रहीं 66 वर्षीय शशिकला को न्यायिक हिरासत के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जेल अधिकारियों ने शशिकला को 27 जनवरी को औपचारिक रूप से रिहा किया था। शशिकला जब अस्पताल से निकलीं, तो उनके समर्थकों की भीड़ ने उनका स्वागत किया। पुलिस ने बताया कि इलाके में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए 300 से अधिक पुलिकर्मी तैनात किए गए। शशिकला की रिहाई ऐसे समय हुई है, जब तमिलनाडु में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होना है।

12 COMMENTS

  1. I want to convey my appreciation for your kind-heartedness in support of people that really need assistance with this important theme. Your special commitment to getting the message across became rather interesting and has all the time enabled ladies like me to realize their aims. Your invaluable recommendations means so much a person like me and somewhat more to my peers. With thanks; from all of us.

  2. I am really enjoying the theme/design of your web site. Do you ever run into any browser compatibility problems? A small number of my blog audience have complained about my site not working correctly in Explorer but looks great in Firefox. Do you have any tips to help fix this issue?

  3. Can I just say what a reduction to find somebody who truly knows what theyre talking about on the internet. You positively know learn how to deliver a difficulty to mild and make it important. More individuals need to learn this and understand this aspect of the story. I cant imagine youre no more standard because you positively have the gift.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here