जनरल ओबीसी-इंप्पलाइज एसोसिएशन के 100-150 कर्मचारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

0
148

March 18, 2020

देहरादून : देहरादून में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 50 से अधिक लोगों के एकत्र होने पर जनरल ओबीसी-इंप्पलाइज एसोसिएशन के 100-150 कर्मचारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इससे पहले सिटी मजिस्ट्रेट अनुराधा पाल ने बाकायदा मुनादी कर हड़ताली कर्मचारियों को चेतावनी भी दी थी, लेकिन कोई टस से मस नहीं हुआ। कर्मचारियों पर बलवा, सरकारी कार्य में बाधा डालने और सेवन क्रिमिनल एक्ट के तहत अभियोग दर्ज किया गया है। जिला क्रीड़ा अधिकारी राजेश ममगाई ने मंगलवार को हड़ताली कर्मचारियों के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज कराया। सोमवार को खेल परिसर की पार्किंग में अनाधिकृत रूप से दाखिल कर प्रदर्शन करने के आरोप में रिपोर्ट दर्ज हुई थी। आरोप है कि कर्मचारी जल संस्थान की दीवार फांदकर अंदर दाखिल हुए। पीआरडी जवानों के मना करने पर हड़ताली कर्मचारी आगे बढ़ गए। इस मामले में डालनवाला कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। मंगलवार को हड़ताली कर्मियों ने फिर परेड ग्राउंड में एकत्र होकर प्रदर्शन किया। इसी दौरान सिटी मजिस्ट्रेट अनुराधा पाल ने कर्मचारियाें के बीच पहुंचकर मुनादी की। बताया कि कोरोना के चलते लोगों को समूह के रूप में एकत्रित होने पर प्रतिबंध है।

भीड़ से कोरोना संक्रमण का भय
बावजूद इसके हड़ताल कर्मचारी बिना अनुमति के एकत्रित होकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इससे आम जनमानस में एकत्र हुई भीड़ से कोरोना संक्रमण को लेकर भय का वातावरण उत्पन्न हो रहा है। इसी मुनादी की बाकायदा वीडियो रिकार्डिंग भी कराई। चेतावनी के बाद कर्मचारी शक्ति प्रदर्शन में मशगूल रहे। जिला क्रीड़ा अधिकारी ममगांई ने दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि 100-150 अज्ञात पुरुषों और महिलाओं ने खेल विभाग के पार्किंग स्थल पर तैनात पीआरडी जवान के मना करने के उपरांत जबरन प्रवेश कर प्रदर्शन किया। इससे कार्य में बाधा उत्पन्न होने के साथ लोकहित प्रभावित हुए। डालनवाला पुलिस ने संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
डॉक्टरों व स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल रोकने के लिए शासन ने किया एस्मा लागू
सहायक कोषाधिकारी से मारपीट में तीसरा मुकदमा
कोषागार पेंशन और हकदारी उत्तराखंड आफिस में मारपीट करने के आरोप में उत्तराखंड जनरल ओबीसी संघ के कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। सहायक कोषाधिकारी साइबर ट्रेजरी अरविंद कुमार सैनी ने बताया कि हड़ताल कर्मचारियाें ने जबरन आफिस में घुसकर उनके साथ मारपीट की। इतना ही नहीं काफी देर बंधक बनाकर भी रखा गया। कार्यालय में दोबारा नजर आने पर जान से मारने की धमकी दी गई। पुलिस ने विभिन्न धाराओं में हड़ताली कर्मचारियाें के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कर लिया है।