जम्मू-कश्मीर : में सात विधानसभा क्षेत्रों को बढ़ाने के लिए गठित परिसीमन आयोग की गतिविधियां तेज हो गई हैं। राज्य के पांच सांसदों के साथ पहली बैठक 18 फरवरी को बुलाई गई है।

0
149

जम्मू-कश्मीर : में सात विधानसभा क्षेत्रों को बढ़ाने के लिए गठित परिसीमन आयोग की गतिविधियां तेज हो गई हैं। राज्य के पांच सांसदों के साथ पहली बैठक 18 फरवरी को बुलाई गई है। आयोग का एक साल का कार्यकाल पांच मार्च को समाप्त हो रहा है। ऐसे में परिसीमन की कार्रवाई को पूरा करने के लिए कार्यकाल बढ़ाया जाएगा। सूत्रों के अनुसार जून में परिसीमन को पूरा कर इस साल के अंत तक चुनाव कराए जाने की तैयारी है।
जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 के तहत प्रदेश में विधानसभा क्षेत्रों का परिसीमन कर सात विधानसभा क्षेत्रों को बढ़ाया जाना हैं। आयोग की अध्यक्ष जस्टिस रिटायर्ड रंजना प्रकाश देसाई ने जम्मू-कश्मीर के पांच लोकसभा सांसदों केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह, जुगल किशोर शर्मा, डॉ. फारूक अब्दुल्ला, मो. अकबर लोन और हसनैन मसूदी को विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन पर चर्चा करने के लिए 18 फरवरी को सुबह साढ़े ग्यारह बजे नई दिल्ली के अशोक होटल में बैठक में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया है। बैठक में आयोग के सदस्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र, राज्य चुनाव आयुक्त केके शर्मा भी मौजूद रहेंगे। बता दें कि पांच मार्च 2021 को परिसीमन आयोग की चेयरमैन रंजना प्रकाश देसाई का एक साल का कार्यकाल समाप्त हो रहा है।

24 सीटें पाकिस्तान अधिकृत जम्मू-कश्मीर के लिए आरक्षित रहेंगी
जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 के तहत प्रदेश में विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन के बाद सीटों की कुल संख्या बढ़कर 114 हो जाएगी। हालांकि, 24 सीटें पाकिस्तान अधिकृत जम्मू-कश्मीर के लिए आरक्षित रहेंगी और 90 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा।