जम्मू-कश्मीर:- लाकडाउन में शराब की दुकान बंद होने से नहीं थमी शराब की खरीदारी,ब्लैक तथा दवाइयों से बनाई जा रही शराब

0
20

जम्मू-कश्मीर में शराब की दुकानें बंद होने के कारण इसे धड़ल्ले से ब्लैक में बेचा जा रहा है। आबकारी विभाग की सुस्ती और लापरवाही के कारण ऐसा हो रहा है। पहले की दुकानें बंद हो चुकी हैं, जबकि नई दुकानों पर भी शराब का अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) जारी न होने की वजह से सभी ब्रांड की शराब मौजूद नहीं है।
अब तक नई दुकानें पूरी तरह से शुरू भी नहीं हो पाई हैं। लेकिन विभाग की ओर से इसे लेकर कोई कदम नहीं उठाया जा रहा। यहां तक कि इस बीच देसी शराब अवैध रूप से निकालने का धंधा भी बेखौफ जारी है। ग्रामीण क्षेत्रों में नशीली दवाइयों का इस्तेमाल करके देशी शराब निकाली जा रही है, जो घातक साबित हो सकती है।
जानकारी के अनुसार प्रदेश में शराब की कमी चल रही है, कैंटीनों में पर्याप्त शराब उपलब्ध नहीं है। इसकी वजह से कई लोगों ने शराब को स्टोर करके रखा हुआ है, जो शराब के एमआरपी के ऊपर तीन गुणा अधिक दाम वसूल कर इसे बेच रहे हैं। पड़ोसी राज्य पंजाब से भी शराब लाई जा रही है।
अवैध रूप से लाई जाने वाली इस शराब के कई गुणा अधिक दाम वसूले जा रहे हैं। वाइन ट्रेडर्स एसोसिएशन के प्रधान चरणजीत सिंह का कहना है कि अवैध रूप से देशी शराब निकाली जा रही है। पंजाब से भी अवैध रूप से शराब आ रही है, जिस पर विभाग का कोई अंकुश नहीं है। यहां तक कि विभाग की ओर से इसे लेकर कोई कार्रवाई भी नहीं की जा रही।