जयपुर. अपनी आर्थिक सेहत सुधारने के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण (Jaipur Development Authority) यानी जेडीए अब बकायादारों से वसूली करने में जुट गया है. वह जयपुर एयरपोर्ट (Airport) के विस्तार के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी को दी गई जमीन के बदले अब करीब 150 करोड़ रुपए वसूलने की तैयारी में जुटा है

0
88
जयपुर. अपनी आर्थिक सेहत सुधारने के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण (Jaipur Development Authority) यानी जेडीए अब बकायादारों से वसूली करने में जुट गया है. वह जयपुर एयरपोर्ट (Airport) के विस्तार के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी को दी गई जमीन के बदले अब करीब 150 करोड़ रुपए वसूलने की तैयारी में जुटा है. वहीं रीको को जमीन आवंटित कर करीब 90 करोड़ रुपए हासिल करने की तैयारी भी जेडीए कर रहा है.
राजस्थान में रियल एस्टेट सेक्टर पहले से ही मंदी की मार से जूझ रहा था और उसके बाद कोरोना ने इस मंदी ने ‘कोढ़ में खाज’ का काम कर दिया. मंदी की इस मार का असर सरकारी एजेंसियों पर भी पडा है. ऐसे में अब उससे उबरने की कवायद शुरू हो चुकी हैं. जयपुर विकास प्राधिकरण अब अपने खजाने को भरने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) से बकाया वसूलने की तैयारी में जुट गया हैं. जयपुर एयरपोर्ट के विस्तार के लिए वर्ष 2002 से लेकर 2012 के बीच एयरपोर्ट अथॉरिटी ने जेडीए की जमीन ली थी. इस दौरान एयरपोर्ट विस्तार में जेडीए की करीब 1 लाख मीटर से ज्यादा जमीन चली गई थी. ऐसे में बाजार भाव के हिसाब से करीब 150 करोड़ रुपए एयरपोर्ट अथॉरिटी से मांगने की तैयारी हैं. इसके लिए जेडीए एयरपोर्ट अथॉरिटी को वर्ष 2016 में भी पत्र लिख चुका है. लेकिन उसे बकाया रकम अभी तक नहीं मिल पाई है. ऐसे में जेडीए अब फिर से पत्र व्यवहार करने की तैयारी कर रहा है.