जातीय जनगणना पर हथियार नहीं डालेंगे नीतीश, केंद्र के सामने खेल सकते हैं ‘सबका साथ-सबका दबाव’ वाला दांव

0
22

पटना
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि वह राज्य में जाति आधारित जनगणना कराने की मांग पर सर्वसम्मत निर्णय लेने के लिए राज्य में विधानसभा उपचुनाव के बाद सर्वदलीय बैठक बुलाएंगे। उन्होंने कहा कि सभी 10 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि एक साथ बैठकर बिहार में जाति आधारित जनगणना पर चर्चा करेंगे।
विधानसभा उपचुनाव के बाद बैठक
राज्य के कुशेश्वर स्थान और तारापुर विधानसभा क्षेत्रों में 30 अक्टूबर को उपचुनाव होना है। मतों की गिनती 2 नवंबर को होगी, यानी उसके बाद प्रस्तावित बैठक होगी। एक सवाल के जवाब में, सीएम ने कहा कि वह इस मुद्दे पर किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले सभी मौजूदा नियमों और विनियमों को ध्यान में रखेंगे। जनगणना-2021 के दौरान जातिवार जनसंख्या की गणना करने की अपनी मांग को दोहराते हुए नीतीश ने कहा कि ‘मुझे पूरा विश्वास है कि राज्य के सभी राजनीतिक दल इस मुद्दे पर आम सहमति पर पहुंचेंगे।’ नीतीश ने दोहराई जातीय जनगणना की मांग
नीतीश ने आगे कहा कि बिहार के 10 राजनीतिक दलों के एक प्रतिनिधिमंडल ने पीएम नरेंद्र मोदी (23 अगस्त को) से मुलाकात की थी और उन्हें देश भर में जाति आधारित जनगणना कराने के पक्ष में सब कुछ समझाया था। नीतीश के मुताबिक ‘पीएम के साथ हमारी बैठक के दौरान, हमने मांग की कि देश भर में जाति आधारित जनगणना होनी चाहिए। अब, यह केंद्र पर निर्भर है कि वह हमारी मांग पर विचार करे और निर्णय करे।’