दिल्ली में कोरोना के सिर्फ 6000 नए मामले, फिर भी बढ़ा लॉकडाउन, केजरीवाल ने बताई इसके पीछे की वजह

0
101

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने काफी कहर बरपाया है। राज्य में पिछले महीने लगभग 30,000 नए मामले दर्ज किए गए थे। इसके बाद दिल्ली में लॉकडाउन लगाया गया ताकि कोविड की चेन को तोड़ा जा सके। इसी बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को लॉकडाउन को एक और हफ्ते के लिए बढ़ा दिया है।
राजधानी में लॉकडाउन की अवधि 17 मई को सुबह पांच बजे खत्म हो रही थी। अब 24 मई की सुबह पांच बजे तक लॉकडाउन रहेगा। इसे लेकर सीएम ने कहा कि हमने जो रिकवरी हासिल की है उसे जल्दीबाजी में लोगों के लिए खोलकर नहीं खो सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘कोविड-19 से लड़ते हुए हमें जो लाभ प्राप्त हुआ है उसे अचानक किसी तरह की छूट के कारण नहीं खोया जा सकता है।’
दिल्ली में संक्रमण दर 30 प्रतिशत से ज्यादा पर पहुंच गई थी। ऐसे में 19 अप्रैल से मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा की। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि राज्य के लिए चौथी लहर बेहद खतरनाक हो सकती है और लोगों का जीवन बचाने के लिए उन्हें घर के अंदर रखना होगा। 26 अप्रैल को दिल्ली में संक्रमण दर 35 प्रतिशत थी। हालांकि 21 दिनों में इसमें कमी आई है।
लॉकडाउन बढ़ाने के पीछे का कारण बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोविड-19 मामलों की संख्या घट रही है और रिकवरी बढ़ा है लेकिन हम इस लाभ को खोना नहीं चाहते इसलिए लॉकडाउन को एक हफ्ते के लिए बढ़ाया गया है। ऑनलाइन सर्वे के मुताबिक भी ज्यादातर दिल्ली वाले चाहते थे कि लॉकडाउन की अवधि कम से कम एक हफ्ते और बढ़ाई जाए।
दिल्ली में शनिवार को कोरोना के 6,430 नए मरीज मिले हैं, वहीं 337 मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी। इस दौरान 11,592 मरीज पूरी तरह ठीक हो गए। राजधानी में अब संक्रमण दर 11.32 प्रतिशत पर आ गई है। राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 13,87,411 पर पहुंच गई है, जिसमें से अब तक कुल 12,99,872 मरीज वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं।