निजी बसों को रोडवेज बेड़े में शामिल नहीं करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर रोडवेज कर्मियों ने दादरी बस स्टैंड (Bus Stand) पर मीटिंग करते हुए रोष प्रदर्शन किया

0
145
निजी बसों को रोडवेज बेड़े में शामिल नहीं करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर रोडवेज कर्मियों ने दादरी बस स्टैंड (Bus Stand) पर मीटिंग करते हुए रोष प्रदर्शन किया. इस दौरान उन्होंने सरकार व विभाग अधिकारियों पर वायदा खिलाफी का आरोप (Allegations) लगाते हुए बड़ा आंदोलन शुरू करने व फिर से हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी. रोडवेज के प्रदर्शन में आशा वर्कर्स, बर्खास्त पीटीआई टीचरों सहित कई विभागों के कर्मचारी समर्थन में पहुंचे.
डिपो वर्कशाप में हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन के बैनर तले डिपो प्रधान कृष्ण ऊण की अगुवाई में रोष मीटिंग का आयोजन किया गया. इस दौरान किलोमीटर स्कीम रद्द करने, स्टेज कैरिज स्कीम रद्द करने, पुरानी पेंशन स्कीम लागू करना, रोडवेज के बेड़े में हर साल 2000 बस शामिल करना, खाली पदों पर पक्की भर्ती करना, परिचालकों का पे स्केल बढ़ाना सहित कई मांगों को लेकर सरकार पर वायदा खिलाफी का आरोप लगाया.

सरकार पर लगाया रोडवेज का निजीकरण करने का आरोप
मीटिंग के बाद रोडवेजकर्मी प्रदर्शन करते हुए बस स्टैंड पहुंचे और यातायात प्रबंधक भूपेंद्र श्योराण को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा. प्रदर्शनकारियों ने सरकार पर रोडवेज का निजीकरण का आरोप लगाया. साथ ही कहा कि इस बार रोडवेज कर्मचारी चुप नहीं बैठेंगे और बड़ा आंदोलन करेंगे.

मांगें नहीं मानी तो करेंगे हड़ताल
अगर सरकार ने उनकी मांगों पर विचार नहीं किया तो कर्मचारी फिर से हड़ताल पर जाने को मजबूर होंगे. रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में एसकेएस के जिलाध्यक्ष राजकुमार घिकाड़ा, आशा वर्कर्स यूनियन की प्रदेश उपाध्यक्ष कमलेश भैरवी, बर्खास्त पीटीआई संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष धर्मेंद्र पहलवान सहित कई विभागों के कर्मचारी भी पहुंचे.