नियोजित शिक्षकों ने सरकार पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया 5 सितंबर को पूरे राज्य में शिक्षक अपमान दिवस के तौर पर मनाएंगे

0
35

बिहार के नियोजित शिक्षक लंबे समय से सेवा शर्त और वेतन वृद्धि की मांग कर रहे थे। चुनाव करीब आया तो बिहार सरकार ने उनकी मांग पूरी की। 15 फीसदी वेतन वृद्धि के साथ सेवा शर्त भी लागू कर दिया। अब शिक्षकों को राज्य सरकार द्वारा लागू की गई सेवा शर्त पर आपत्ति है। इसके खिलाफ नियोजित शिक्षक फिर से आंदोलन की राह पर चलने जा रहे हैं। नियोजित शिक्षकों ने सरकार पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है। पंचायत नगर और प्रारंभिक शिक्षकों ने आंदोलन का ऐलान कर दिया है। शिक्षक नेता आनंद कौशल सिंह ने कहा कि 5 सितंबर को पूरे राज्य में शिक्षक अपमान दिवस के तौर पर मनाएंगे। सभी शिक्षक काली पट्टी बांधकर स्कूल जाएंगे और शिक्षक दिवस समारोह का बहिष्कार करेंगे। 12 सितंबर को मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का सभी प्रखंडों में अर्थी जुलूस निकालेंगे। 19 सितंबर को पूरे राज्य भर में मशाल जुलूस निकालकर विधानसभा और विधान परिषद चुनाव में एनडीए प्रत्याशियों को वोट नहीं देने का संकल्प लिया जाएगा।(UNA)