कई जगह झड़प, हवाई फायरिंग, रोड़ेबाजी, मतदान बहिष्कार और भीषण गर्मी के बीच सातवें चरण के आठ संसदीय सीटों पर 53.55 फीसदी मतदान हुआ। नालंदा में 54.40,  पटना साहिब 43.54, पाटलिपुत्र 57.26, आरा में 52.60, बक्सर में 55.60, सासाराम (सु) 57.74, काराकाट 55.00  एवं जहानाबाद में 54.00  फीसदी वोट पड़े। वहीं, डेहरी विधानसभा उप चुनाव में 56 फीसदी मतदान हुआ। जबकि 2014 में इन क्षेत्रों में कुल 51.49 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था। इस प्रकार इस चरण में 2.06 फीसदी अधिक मतदान हुआ।

इसके साथ ही चार केंद्रीय मंत्रियों अश्विनी कुमार चौबे, आरके सिंह, रविशंकर प्रसाद, रामकृपाल यादव व राजद के जगदानंद सिंह, रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा व कांग्रेस की मीरा कुमार सहित 157 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में बंद हो गये। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पूर्व सीएम राबड़ी देवी, जीतनराम मांझी, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, निवर्तमान सांसद शत्रुघ्न   सिन्हा सहित अन्य प्रमुख लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र के मसौढ़ी व  पालीगंज, सासाराम लोकसभा क्षेत्र के भभुआ, चैनपुर, चेनारी और सासाराम एवं काराकाट लोकसभा क्षेत्र के डिहरी, काराकाट, गोह और नवीनगर विधानसभा क्षेत्रों में सुबह सात बजे से शाम 4 बजे तक ही मतदान हुआ। जबकि अन्य सभी विधानसभा क्षेत्रों में शाम छह बजे तक वोट पड़े।