मुकेश सिंह और भोला सिंह की हत्या की सुपारी देने के मामले में खुद पर शिकंजा कसता देख विधायक अनंत सिंह फरार हो गये। सोमवार की शाम पंडारक थानेदार उन्हें एक अगस्त को एफएसएल में आवाज का सैंपल देने से संबंधित नोटिस देने सचिवालय थानांतर्गत एक मॉल रोड स्थित सरकारी क्वार्टर में पहुंचे थे। वहां विधायक नहीं मिले।

घर में मौजूद उनके लोगों ने बताया कि विधायक यहां नहीं हैं। वे कहां गये हैं, ये किसी को नहीं पता। पुलिस ने जब घर में मौजूद विधायक के करीबियों से नोटिस रीसिव करने को कहा तो उन्होंने इनकार कर दिया। इसके बाद पंडारक थानेदार ने विधायक के सरकारी आवास पर नोटिस चिपका दिया। पुलिस अधिकारियों की मानें तो इस मामले में विधायक की गिरफ्तारी तय है। सोमवार की सुबह ही सुपारी देने वाला ऑडियो पटना पुलिस ने एफएसएल में जमा कर दिया। अब एक अगस्त को विधायक को अपनी आवाज का सैंपल एफएसएल में देना होगा। इसके बाद ऑडियो और विधायक की आवाज का मिलान कराया जायेगा। अगर एफएसएल की रिपोर्ट में विधायक की आवाज होने की बात पर मुहर लगी तो पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर सकती है। जांच टीम एफएसएल की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। इसके पहले पुलिस पूर्व में पकड़े गये विधायक के तीनों गुर्गों का बयान ले चुकी है, जिन्होंने मुकेश और भोला की हत्या की सुपारी मिलने की बात कबूल की है। विधायक के साथ-साथ इस मामले में विकास सिंह, लल्लू मुखिया समेत अन्य पर भी गाज गिरेगी। बाढ़ की एडिशनल एसपी लिपि सिंह ने बताया कि इस मामले में पुलिस कानून के मुताबिक कार्रवाई कर रही है।