पटना-बिहार की आठ सीटों पर सिमटा चुनाव प्रचार

बिहार में अब सभी पार्टियों का चुनाव प्रचार आठ सीटों पर सिमट चुका है। छह चरणों में 40 में से 32 सीटों पर चुनाव समाप्त हो चुके हैं। अब पूरा ध्यान सातवें और अंतिम चरण की सीटों पर है, जहां 19 मई को मतदान होना है। सभी दलों के प्रमुख नेता इन सीटों पर जोर लगाए हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अंतिम चरण को लेकर दो दिन बिहार आ रहे हैं। वह 14 मई को बक्सर और सासाराम में तो 15 मई को पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में उनकी चुनावी सभाएं होंगी।

अंतिम चरण में ही राजधानी की दोनों सीटों पर चुनाव होना है। इसी को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को पटना में रोड शो भी किया। सभाएं भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सभी आठों सीटों पर चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहे हैं। औसतन प्रतिदिन मुख्यमंत्री की चार सभाएं हो रहीं हैं।

इसी तरह पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और राजद नेता तेजस्वी प्रसाद यादव रोजाना प्रचार कर रहे हैं। लोगों से मिल रहे हैं। राबड़ी देवी की पुत्री मीसा भारती भी पाटलिपुत्र से चुनाव लड़ रही हैं, जहां अंतिम चरण में ही चुनाव है। उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पटना समेत सभी आठों सीटों पर चुनाव प्रचार लगे हैं। इसी प्रकार हम पार्टी के अध्यक्ष जीतन राम मांझी और रालोसपा के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा भी निरंतर प्रचार में लगे हैं। उपेंद्र कुशवाहा तो स्वयं काराकाट से चुनाव लड़ रहे हैं, जहां सातवें चरण में ही मतदान है। इसी तरह तमाम बड़े नेता प्रचार में लगे हैं।

पटना-लोकसभा चुनाव 2019- बिहार: छठे चरण में 59.38% मतदान, भाजपा सांसद पर हमला

छिटपुट घटनाओं के बीच बिहार में छठे चरण में आठ संसदीय सीटों पर 59.38 फीसदी वोट पड़े।  पिछले लोकसभा चनाव में इन क्षेत्रों में पड़े कुल 57.25 फीसदी वोट से 2.13 प्रतिशत अधिक है। शिवहर के माधोपुर सुंदर में होमगार्ड जवान द्वारा राइफल संभालने के दौरान चली गोली से पीठासीन पदाधिकारी की मौत हो गयी। वहीं, तो पश्चिम चंपारण में वर्तमान सांसद व भाजपा प्रत्याशी संजय जायसवाल पर नरकटिया के बूथ 162 पर लाठी-डंडे से लैस भीड़ ने हमला कर दिया। सांसद के बॉडीगार्ड ने हवाई फायरिंग कर उन्हें बचाया। पूर्वी चंपारण स्थित पीपरा के बूथ संख्या 260 पर अचानक तबीयत बिगड़ने से एक व्यक्ति की मौत हो गई।

वहीं, गोपालगंज के मांझागढ़ थाने के धर्मपरसा गांव में बूथ का निरीक्षण करने गए निर्दलीय प्रत्याशी सूरज कुमार पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया। इसके अलावा महाराजगंज के मांझी स्थित साधपुर बूथ पर मतदानकर्मियों की पिटाई कर दी गयी। सीवान में हुसैनगंज प्रखंड के चांप पंचायत के बिंदवल गांव में मतदान के क्रम में दो प्रत्याशियों के समर्थक गुटों के बीच झड़प के बाद जमकर पथराव हुआ। इसलिए थोड़ी देर के लिए बूथ संख्या 64 व 65 पर मतदान बाधित हुआ। वहीं, मैरवा के मिसकरहि गांव निवासी सद्दाम नामक युवक को 26 हजार रुपये के साथ गिरफ्तार किया गया। ईवीएम में गड़बड़ी से मतदान में हुई देरी

वैशाली के बूथ नंबर 229 राजकीय प्राथमिक विद्यालय सोंधो वासुदेव  में बोगस वोटिंग को लेकर दोपहर में तनावपूर्ण माहौल रहा। वाल्मीकिनगर में बूथ संख्या 222 से चुनाव में बाधा पहुंचाने के आरोप में दो युवकों को  हिरासत में लिया गया। वैशाली में मीनापुर बनुआ बूथ पर महागठबंधन के कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया। यहां एक युवक को गिरफ्तार किया गया। वैशाली के पारू में बूथ संख्या 240 एवं गोपालगंज में बूथ संख्या 318 पर ईवीएम में गड़बड़ी के चलते मतदान शुरू होने में देरी हुई।

पश्चिम चंपारण में सबसे अधिक 63.90% मतदान
वालमीकिनगर में 63.80, पूर्वी चंपारण में 58.70, पश्चिम चंपारण में 63.90, शिवहर में 60, वैशाली में 61.37, गोपालगंज में 59.20, सीवान में 56.75 और महाराजगंज में 52.12 फीसदी मतदान हुआ। इस चरण में मतदान को लेकर 13973 मतदान केंद्र बनाए गए थे। जबकि पांचवें चरण में पांच संसदीय सीटों पर 57.08 फीसदी मतदान हुआ था। इस चरण में भाजपा के राधा मोहन सिंह, संजय जायसवाल, जनार्दन सिंह सीग्रीवाल, राजद के रघुवंश प्रसाद सिंह, हिना शहाब, लोजपा की  वीणा देवी, कांग्रेस के आकाश सिंह  सहित 127 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में बंद हो गये हैं।

सीवान सीवान में युवाओं के साथ महिलाएं भी वोट देने में आगे

सीवान संसदीय क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रविवार को शांतिपूर्ण मतदान संपन्न हो गया। कड़ाके की धूप का असर चुनावी प्रक्रिया में देखने को नहीं मिला। धूप को बॉय-बॉय कर मतदाता अपने मत का प्रयोग कर रहे थे। महिलाएं सिर पर आंचल डाले या छाता पकड़े कतार में खड़ी रहीं, लेकिन धूप से विचलित नहीं हुईं।

मतदान का करने में युवा व नौजवान के साथ महिलाएं भी पीछे नहीं रहीं। पहले मतदान फिर जलपान की अपील का असर मतदाताओं में बढ़-चढ़कर बोल रहा था। लोगों में अपने मत का प्रयोग करने को लेकर उत्साह था। मतदान के पहले पहर में ही बूथों पर लंबी कतार देखने को मिली।

शहर के बूथ हो या ग्रामीण इलाके के हर जगह लोकतंत्र के महापर्व में अपने मत का प्रयोग करने को लेकर हर वर्ग उत्साहित रहा। वोट की कीमत व मत का प्रतिशत बढ़ाने के अभियान में जिला प्रशासन की पहल बूथों पर नजर आई। मतदान प्रक्रिया को लेकर भी लोग प्रसन्न दिखे। चुनावी ड्यूटी में लगे कर्मियों की रफ्तार से बूथ की लंबी कतार तेजी से आगे की ओर खिसक भी जा रही थी। इसे लेकर मतदाता इत्मीनान दिखे।  40 मतदान केन्द्रों पर लाइव वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई थी। प्रत्येक विधानसभा में दो-दो मॉडल मतदान केन्द्र के अलावा प्रत्येक विधानसभा में एक-एक बूथ महिलाओं द्वारा संचालित था। सभी मतदान केन्द्र पर माइक्रो प्रेक्षक, अर्द्धसैनिक बल व वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई थी। चुनाव को लेकर प्रशासन ने 33658 वैसे मतदाताओं को चिन्हित किया था जो कि मतदान को प्रभावित कर सकते थे। आंदर के सभी मतदान केन्द्र व मॉडल बूथ पर शांतिपूर्ण मतदान संपन्न हो गया। मॉउल बूथ पर मतदान को लेकर महिलाओं की भागीदारी अधिक देखी गई।

मधुबनी बाढ़ से पूर्व तैयारी में लाएं तेजी : डीएम

डीएम शीर्षत कपिल अशोक की अध्यक्षता में शनिवार को समाहरणालय स्थित सभागार में बाढ़ पूर्व तैयारी से संबंधित समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में वर्षा मापक यंत्र को चालू हालत में रखने एवं वर्षा मापक यंत्र की रिडिंग के लिए प्रत्येक प्रखंड में दो प्रशिक्षित कर्मी को चयनित कर प्रत्येक दिन वर्षापात के आंकड़े, जिला आपदा, जिला सांख्यिकी, जिला कृषि एवं अनुमंडल पदाधिकारी को भेजने का निर्देश दिया गया। साथ ही जिला सांख्यिकी पदाधिकारी को अपने स्तर से प्रशिक्षण की व्यवस्था एवं सभी प्रखंड के वर्षा मापक यंत्र की स्थिति की समीक्षा कर प्रतिवेदन देने का निर्देश दिया । साथ ही झंझारपुर रेलवे ब्रिज, जयनगर साइफन एवं एकमा साइफन पर कमला बलान एवं भूतही बलान नदी का जलस्तर का माप प्राप्त किया जाता है। इन तीनों जलस्तर मापक स्थल पर जलस्तर की मापी के लिए कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल 1 एवं 2 झंझारपुर के कर्मचारी को मापक गेज की स्थिति एवं उसके नियमित रूप से रिडिंग लेने एवं जिला स्तर पर सूचना उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया। बाढ़ सुरक्षा के लिए गांव, पंचायत एवं प्रखंड स्तर पर उपलब्ध सभी संसाधन का मानचित्र (विस्तृत विवरणी) जिसमें नाव, जेनरेटर सेट, पेट्रोमैक्स, टेंट, जाल-महाजाल, खाली सिमेंट की बोरियां आदि की विवरणी की उपलब्धता एवं भंडारण की विवरणी तैयार करने का निर्देश दिया गया। अंचल में उपलब्ध निजी नाव मालिकों से एकरारनामा करने, पुरानी सरकारी नावों की गहनी व मरम्मति कराकर परिचालन योग्य बना लेने तथा इस मद में होने वाले व्यय की मांग जिला को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल, संख्या 1 और 2 झंझारपुर, पश्चिमी कोशी तटबंध प्रमंडल निर्मली (सुपौल) एवं सभी अनुमंडल पदाधिकारी को सभी तटबंधों की मरम्मति आदि की कार्रवाई सुनिश्चित करने तथा इस दिशा में की गई कार्रवाई संबंधी प्रतिवेदन जिला आपदा शाखा में उपलब्ध कराने तथा बाढ़ के समय तटबंध की नियमित निगरानी एवं गस्ती कार्य के लिए संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी तथा जिला समादेष्टा गृह रक्षा वाहिनी एवं संबंधित कार्यपालक अभियंता आपस में संपर्क कर प्रति किमी. पर एक गृह रक्षक की प्रतिनियुक्ति पूर्व के निर्देश के आलोक में सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। बैठक में अपर समाहत्र्ता दुर्गानंद झा, सदर एसडीओ सुनील कुमार सिंह, बेनीपट्टी एसडीओ मुकेश रंजन, फुलपरास एसडीओ गणेश कुमार, सदर एसडीपीओ सुश्री कामिनीबाला समेत सीओ एवं अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

मधुबनी -23 मई तक पुलिस अफसर रहेंगे अलर्ट

एसपी डा. सत्य प्रकाश ने शनिवार शाम पुलिस अफसरों के साथ क्राइम मीटिंग की। मीटिंग में उन्होंने आदर्श आचार संहिता लागू रहने तक पुलिस को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है। उन्होंने अफसरों को कहा कि वह 23 मई तक सड़क पर एक्टिव रहें।

लोकसभा चुनाव के दौरान झंझारपुर एवं मधुबनी क्षेत्र में शांतिपूर्ण चुनाव सम्पन्न कराने के लिए एसपी ने पुलिस अफसरों की प्रशंसा की। उन्होंने मतदान के दौरान सीनियर पुलिस एवं प्रशासनिक अफसरों के साथ दूसरे थानों की पुलिस से समन्वय स्थापित कर विधि व्यवस्था बनाने के लिए डीएसपी, इंस्पेक्टर एवं थानेदारों की पीठ थपथपाई। मतदान केन्द्र एवं उसके आसपास ड्यूटी में लगाए गये पुलिस अफसरों को विशेष निर्देश भी दिया। मीटिंग में उन्होंने विधि व्यवस्था पर विस्तार से चर्चा की।

पेंडिग मुकदमों की जांच में तेजी लाने का निर्देश दिया। लंबित मामलों में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एवं इंस्पेक्टरों को सुपरविजन रिपोर्ट देने को कहा है। मीटिंग में सदर एसडीपीओ कामिनी वाला, बेनीपट्टी डीएसपी पुष्कर कुमार, जयनगर डीएसपी सुमित कुमार, फुलपरास डीएसपी सुनीता कुमारी, टाउन इंस्पेक्टर अरुण कुमार राय, सदर इंस्पेक्टर देवेन्द्र कुमार आदि थे।