पटना, । कहते हैं कि इंसान खाली हाथ आता है और खाली हाथ ही जाता है। लेकिन बिहार में एक मुर्दा को जब अपने अंतिम संस्कार के लिए पैसे लेने बैंक जाना पड़ा तब अफरा-तफरी मच गई।

15
283

पटना, । कहते हैं कि इंसान खाली हाथ आता है और खाली हाथ ही जाता है। लेकिन बिहार में एक मुर्दा को जब अपने अंतिम संस्कार के लिए पैसे लेने बैंक जाना पड़ा तब अफरा-तफरी मच गई। सब चौंक पड़े। दिलचस्‍प बात यह है कि बैंक प्रबंधक को पैसे देने पड़े। घबराइए नहीं, यह भूत-प्रेत के अंधविश्‍वास का कोई मामला नहीं, मुर्दे के साथ गांव के लोगों के बैंक शाखा पहुंचने का मामला है। घटना पटना के शाहजहांपुर थाना क्षेत्र के सिगरियावा में केनरा बैंक की शाखा में हुई।

शव को बैंक में रख मांगे अंतिम संस्कार के पैसे
मिली जानकारी के अनुसार शाहजहांपुर थाना क्षेत्र के सिगरियावा गांव के महेश यादव (55 साल) की मौत मंगलवार को हो गई। वे बीते कुछ समय से बीमार थे। उनकी मौत के बाद अंतिम संस्कार के लिए गांव के लोगों ने केनरा बैंक की स्‍थानीय शाखा से उनके खाते में जमा रकम की मांग की, लेकिन बैंक प्रबंधन ने नॉमिनी नहीं रहने तथा कानूनी प्रावधानों का हवाला देकर तत्‍काल पैसे देने से मना कर दिया। इससे लोग आक्रोशित हो गए। उन्‍होंने महेश यादव का शव बैंक के अंदर रख दिया तथा पैसे की मांग करने लगे।
शाखा प्रबंधक ने जेब से दिए 10 हजार रुपये

घटना के कारण बैक शाखा में करीब तीन घंटे तक अफरा-तफरी का माहौल रहा। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने भी लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। अंतत: शाखा प्रबंधक संजीव कुमार ने अपनी ओर से अंतिम संस्‍कार के लिए 10 हजार रुपये दिए। इसके बाद ग्रामीण शव काे लेकर श्‍मशान के लिए रवाना हुए।

क्‍या है पूरा मामला, जानिए
दरअसल, महेश यादव ने शादी नहीं की थी और उनका कोई वारिस या स्‍वजन भी नहीं था। केनरा बैंक में उनके खाते में 1.18 लाख रुपये जमा हैं। बैंक खाता का कोई नॉमिनी नहीं रहने के कारण शाखा प्रबंधक ने रकम देने में असमर्थता जताई। महेश यादव ने अपने खाते का केवाइसी भी नहीं कराया था। इस मामले में शाखा प्रबंधक ने कहा कि मृतक महेश यादव के वारिस या स्‍वजन के दावा करने पर बैंक जमा धन हस्‍तांतरित करने की कार्रवाई करेगा।

15 COMMENTS

  1. Unquestionably believe that that you stated. Your favorite justification seemed to be at the net the easiest thing to be aware of. I say to you, I certainly get irked whilst people consider issues that they just do not recognize about. You managed to hit the nail upon the top as smartly as defined out the whole thing without having side-effects , other folks could take a signal. Will likely be back to get more. Thanks

  2. Needed to send you that very small word to say thanks as before with the beautiful tricks you have documented above. It was shockingly open-handed of you to provide unhampered what exactly a number of us could possibly have offered for an ebook to help make some profit on their own, and in particular considering that you could have tried it if you desired. Those tactics in addition acted as the fantastic way to recognize that some people have a similar interest the same as my very own to realize much more on the topic of this problem. I am certain there are lots of more pleasurable moments up front for individuals that take a look at your website.

  3. I discovered your weblog website on google and verify a couple of of your early posts. Continue to keep up the very good operate. I just further up your RSS feed to my MSN Information Reader. Seeking forward to reading more from you later on!…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here