पहली बार भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को यह घोषणा-आम जनता के लिए लोन रीस्ट्रक्चर की सुविधा

0
141

2008 के वित्तीय संकट के बाद पहली बार भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को यह घोषणा की है कि वह कंपनियों से लेकर आम जनता तक के लिए लोन रीस्ट्रक्चर की सुविधा लाएगा। इसके जरिए एयरलाइन कंपनियां, होटल और स्टील-सीमेंट कंपनियां भी अपना लोन रीस्ट्रक्चर कर सकेंगी, जो कोरोना की वजह से नुकसान झेल रही हैं। रिजर्व बैंक अभी लगातार यही कोशिश कर रहा है कि पिछले 100 सालों में आई इस सबसे बड़ी क्राइसिस में लोगों की मदद कर सके।
लोन रीस्ट्रक्चर करने की ये स्कीम सरकार के इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कोड को कुछ समय के लिए ठंडे बस्ते में डाल देगी। कुछ बिजनेस जैसे होटल, एयरलाइन और यहां तक कि फैक्ट्रियां भी या तो बंद हो गई हैं या फिर अपनी क्षमता से बहुत कम प्रोडक्शन कर रही हैं। इसकी वजह स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है और साथ ही कम मांग का होना है, जिससे बहुत सारी नौकरियां जा रही हैं। इससे बिजनेस को लंबे समय के लिए नुकसान पहुंच सकता है। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने इसी बात का जिक्र करते हुए लोन रीस्ट्रक्चर की सुविधा देने का फैसला किया है, ताकि लोन का भुगतान करने में अच्छा रिकॉर्ड रखने वाली ये कंपनियां ऐसी बनी रहें।(UNA)