पुणे, पुणे शहर में भले ही अब कोरोना संक्रमित के मामलों में कमी आई हो लेकिन यह खतरा अभी भी टला नहीं

2
262

पुणे, पुणे शहर में भले ही अब कोरोना संक्रमित के मामलों में कमी आई हो लेकिन यह खतरा अभी भी टला नहीं है। अगले साल में जनवरी और फरवरी के महीने में कोरोना की दूसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में कोरोना से बुरी तरह से प्रभावित रहे पुणे शहर में तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है ताकि अगर दूसरी लहर आती है तो उसे समय पर नियंत्रित किया जा सके। पुणे शहर के मेयर मुरलीधर मोहोल ने सभी नागरिकों से कोरोना से बचाव के लिए सभी नियमों के पालन करने का अनुरोध किया है।
दौड़भाग करने वाले लोग खतरा साबित हो सकते हैं
ऐसे व्यापारी जो ज्यादा दौड़ भाग करने वाले हैं, दूसरों के घरों में काम करने वाले नौकर, मजदूर वर्ग या फिर सरकारी कर्मचारी ये सभी लोग कोरोना को कैरियर हो सकते हैं। ऐसे लोगों लोगों की वजह से शहर में कोरोना की दूसरी लहर आ सकती है। इसलिए लोगों को और भी ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। मुरलीधर ने कहा कि अगर हम सभी सावधानियों का ध्यान रखेंगे तो कोरोना को कंट्रोल करने में आसानी होगी।
बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले
मेयर मुरलीधर मोहोल ने बताया कि आने वाले समय में पुणे शहर में कोरोना के मामले बढ़ने की आशंका है। इसके लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी की है। इस लड़ाई में सबके सहभाग की जरूरत है ताकि हमारी जीत हो सके। शहर में सुपर स्प्रेडर लोगों की पहचान कर उनका कोरोना टेस्ट करने का आदेश प्रशासन की तरफ से दिया गया है। इसके अलावा महानगर पालिका समेत जिला पंचायतों को भी सतर्क रहने का आदेश दिया गया है।
दूसरी लहर आएगी ही जरूरी नहीं
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि राजू में कोरोना की दूसरी लहराने की आशंका व्यक्त की जा रही है लेकिन यह आएगी ही ऐसा जरूरी नहीं है। लेकिन अगर ऐसा हुआ तो इसके लिए प्रशासन पूरी तरह से तैयार है। राजेश टोपे ने कहा कि कोरोना के वैक्सीन को बांटने की भी तैयारियां जोर-शोर से शुरू हैं। पहले फ्रंटलाइन कोरोना वरियर्स को इसे दिया जाएगा।(UNA)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here