बिहार के कैमूर में ईद मिलादुन नबी के 12वी रबी उल अउवल के अवसर पर भव्य जलसा का आयोजन। इस मौके पर लोगों ने बाबा से मिलकर मुल्क में अमन-चैन के लिए दुआ मांगी

0
27
(कैमूर ब्यूरो चीफ) आरएन सिंह
 ईद मिलादुन नबी के12 रबी उल अउवल के अवसर पर जलसा का भव्य आयोजन कैमूर के चैनपुर प्रखंड के बिउर गांव में किया गया। जिसमें हजारों श्रद्धालु बाबा के मजार पर पहुंचकर सुबह 8:00 बजे से जुलूस में शामिल हुए। यह जुलूस पूरे गांव घूमते हुए बाबा के स्थान पर समाप्त हो गया । जहां पर सभी लोगों ने बाबा से मिलकर मुल्क में अमन-चैन के लिए दुआ मांगी। इस मौके पर काफी संख्या में लोग जुट कर आपस में मिलकर एक दूसरे से गले मिले। उसके बाद लंगर में शामिल होकर हजारों की संख्या में लोगों  भोजन ग्रहण किया। जिसमें सभी समुदाय के लोगों शामिल थे।इस जलसा में मुंबई, गुजरात, कोलकाता, अहमदाबाद ,पुना के अलावे कैमूर इलाका के विभिन्न  प्रखंडों से लोग शामिल हुए। कैमूर के चैनपुर के बिउर‌ गांव में प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष की जलसा आदि कार्यक्रम का आयोजन गांव के लोगों द्वारा किया गया। कार्यक्रम का देख रेख जामिया साबीरीया मदरीस  मौलाना अब्दुल रहीम ने किया ।रात्रि के मौका पर तकरीर का प्रोग्राम होगा जिसे लोगों को अच्छे से जीवन व्यतीत करने का प्रेरणा दी गई । कार्यक्रम को सफल बनाने में सदर सेराज खान, सचिव वाहीद खां, खजांची शमीम खान सहीत अन्य ग्रामीणों के महत्वपूर्ण भूमिका रही।   दोपहर के बाद से रात 8:00 बजे रात तक श्रद्धालुओं को पैगंबर हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम (बाल मुबारक) का दर्शन  भी कराया गया । बता दें कि इस ‌मजार पर गुरुवार, शुक्रवार को मेला लगता है। जहां पर दूर-दूर से लोग  संख्या में जूट कर बाबा के मजार पर माथा टेकते हैं। जिससे अंधविश्वास से भटके  लोगों  को मुक्ति मिलती है। मजार का देखरेख एवं साफ-सफाई का व्यवस्था जियाउद्दीन करते रहते है।