बिहार विधानसभा का एक दिन के विशेष लिए सत्र

0
11

पटना,13 जनवरी। आज 13 जनवरी को बिहार विधानसभा का विशेष सत्र है।ये विशेष सत्र एक दिन के लिए बुलाया गया।

बिहार विधान सभा के माननीय अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने बताया कि 126 वां संविधान
संशोधन ,भारतीय संसद के दोनों सदनों से पारित हो चुका है और इसे 25 जनवरी, 2020 से प्रभावी होना है। संविधान अनुच्छेद के तहत आधे से अधिक राज्यों की विधायिका से इसका अनुसमर्थन आवश्य है।इसके मद्देनजर सदन नेता माननीय मुख्यमंत्री से अनुरोध प्राप्त हुआ है एवं तदनुसार बिहार विधानसभा की बैठक-13जनवरी,  2020 को बुलाई गई है।वर्तमान में विधानसभा के चतुर्दश सत्र का सत्रावसान नहीं हुआ है। इसलिए बिहार विधानसभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियमावली के तहत अध्यक्ष सत्र के उपवेशन को बुला सकते हैं। इसी के तहत आगामी 13 जनवरी,2020 को एक दिन के लिए बिहार विधानसभा का विशेष उपवेशन बुलाया गया है। इसमें संविधान के 126 वें  संशोधन जिसमें लोक सभा और राज्यों की विधान सभाओं में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जन- जातियों के लिए स्थानों के आरक्षण ,और नाम -निर्देशन द्वारा आंग्ल-भारतीय समुदाय के प्रतिनिधित्व संबंधी उपबन्ध को 25 जनवरी,2020 से अगले 10 वर्षों यानी 25 जनवरी,2030 तक जारी रखने संबंधी संविधान संशोधन के अनुसमर्थन हेतु राजकीय प्रस्ताव पर विमर्श होगा।

बता दें कि दरअसल विधानसभा के विशेष सत्र में राज्य के अंदर संसदीय और विधानसभा की आरक्षित सीटों के निर्धारण को लेकर प्रस्ताव पास होगा। राज्य के अंदर एससी एसटी के लिए आरक्षित संसदीय और विधानसभा की सीटों का निर्धारण 10 वर्षों के लिए किया जाता है। यह समय सीमा पूरी होने के बाद विधानसभा से एक बार फिर से इसका प्रस्ताव पारित किया जाएगा।

हालांकि विधानसभा का बचट सत्र फरवरी-मार्च में ही होता है। इसी साल बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, लिहाजा चुनाव से पहले ये मौजूदा सरकार का अंतिम बजट सत्र होगा।

आलोक कुमार