जिले के कुदरा चिलबिली लाइन होटल से शनिवार की रात फिरौती के लिए एक युवक का अपहरण कर लिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। लेकिन, पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना के दो घंटे बाद पुलिस ने चैनपुर के जगदहवां बांध के पास से अपहृत सोनहन थाना क्षेत्र के नावागांव निवासी संजय कुमार सिंह को बरामद कर अपहर्ता भभुआ शहर के वार्ड 13 निवासी राजीव कमल सिंह को भी गिरफ्तार किया है।

एसपी दिलनवाज अहमद ने रविवार को अपने कार्यालय कक्ष में प्रेसवार्ता आयोजित कर अपहरण मामले का खुलासा करते हुए बताया कि ट्रक बिक्री की राशि लेनदेन के मामले में घटना को अंजाम दिया गया है, जिसकी जांच की जा रही है। एसपी ने बताया कि शनिवार की रात पुलिस को सूचना मिली कि नावागांव के संजय कुमार सिंह का कुदरा चिलबिली होटल से अपराधियों द्वारा नौ लाख रुपया फिरौती के लिए अपहरण कर लिया गया है। सूचना पर पुलिस टीम ने तकनीकी अनुसंधान से पाया गया कि अपहृत संजय को जगदहवां बांध की तरफ ले जाया गया है।

एसपी ने बताया कि पुलिस ने अपहृत को बरामद कर अपहर्ता राजीव को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में अपहृत संजय ने बताया कि वह अपने ट्रक को आठ लाख रुपए में राजीव से बेचा था। राजीव ने साढे़ पांच लाख रुपया दे दिया था। शेष ढाई लाख रुपया नहीं दे रहा था। इसी बीच चांद थाना क्षेत्र में ट्रक में आग लग गई। ट्रक जलने का चांद थाना में केस दर्ज कराया गया, जिसका इंश्योरेस 13 लाख रुपया मिला, जो संजय के खाता में गया। इस राशि में से चार लाख रुपया राजीव रंजन को दिया। राजीव ने जले ट्रक को तीन लाख रुपए में कबाड़ी में बेच दिया गया।

उन्होंने बताया कि संजय अपनी पत्नी के साथ वाराणसी के गायत्री नगर में रहता था, जहां राजीव अपने भाई व अन्य के साथ पहुंचकर उसकी पत्नी व मकान मालिक से गलत व्यवहार किया। बाद में पंचायती हुई, जिसमें 30 जून 2019 तक पैसा देने की बात तय हुई। लेकिन, समय पर पैसा नहीं दे सका। घटना के समय कुदरा के चिलबिली होटल पर संजय था। वहां राजीव रंजन, गुड्डू कुमार, अनिल सिंह एवं अरुण सिंह तीन गाड़ी से आए और संजय को पिस्टल सटाकर गाड़ी में बैठा लिए। उसे अपहर्ता जगदहवां बांध से कल्याणीपुर गांव में ले गए, जहां गुड्डू द्वारा संजय के साथ मारपीट की गई। बाद में चैनपुर पुलिस ने उसे बरामद किया।

गिरफ्तार राजीव कमल ने एसपी को बताया कि संजय से ट्रक के पैसा का लेनदेन था। उसके भाई से ट्रक बेचा था, जिसकी किश्त बाकी थी। ट्रक स्वामी का नाम हस्तानांतरण नहीं हो पाया था। इसी बीच ट्रक में आग लग गई। इंश्योरेंस का पैसा संजय के बैंक खाता में गया था। उस पैसे की मांग राजीव का भाई कर रहा था। लेकिन, संजय पैसा नहीं दे रहा था। इसी पैसे के लेनदेन में संजय को लेकर अपने साथ गया था। गिरफ्तार राजीव शहर में एक मॉल का संचालक है।