भभुंआ

0
176

भभुंआ संवाददाता-चुनाव में कौन हावी होगा मुद्दा, जाति या लहर

अब मतदान के चंद घंटे शेष रह गए हैं। जिला प्रशासन, राजनीति दल व प्रत्याशियों ने चुनाव की सारी तैयारी कर ली है। मतदाता भी किसे वोट किस अधार पर देंगे यह तय कर लिया है। लेकिन, प्रेस के समक्ष अपना मुंह नहीं खोलकर प्रत्याशियों के लिए सस्पेंश पैदा कर दिया है। बावजूद कुछ मतदाताओं से बातचीत की गई। उनसे जानने की कोशिश की गई कि इस बार के चुनाव में वह मुद्दा को तवज्जो देंगे या जाति को या फिर यहां किसी नेता व पार्टी का लहर है। लेकिन, अधिकांश लोग गोलमटोल जवाब देकर निकल गए तो कुछ लोगों ने यहां तक बता दिया कि वह किसे वोट देनेवाले हैं।

इस चुनाव में सासाराम संसदीय क्षेत्र से 13 प्रत्याशी मैदान में हैं। भाजपा से मौजूदा सांसद छेदी पासवान व कांग्रेस से मीरा कुमार तो बसपा से मनोज कुमार व सीपीआई एमएल से अशोक बैठा हैं। सभी रणनीति के तहत अच्छे से चुनाव लड़ रहे हैं। लेकिन, कुछ जगहों पर विरोध के स्वर भी सुनाई पड़े हैं। कुछ ने कहा सरकार ने गरीबों के लिए योजना शुरू की हैं, वो ठीक हैं लेकिन योजना लाभ जरूरतमंदों को मिले इसकी व्यवस्था होनी चाहिए। अधिकांश निर्माण योजनाएं प्राक्कलन के अनुसार पूरी नहीं की जा रही है।

क्षेत्र में कहीं कांग्रेस तो कहीं बीजेपी और कहीं बसपा व सीपीआई एमएल के समर्थक मिल रहे हैं। कुछ अन्य प्रत्याशियों के भी समर्थक मिले हैं। लेकिन, कुछ ऐसे भी लोग मिले, जो किसी के पक्षकार नहीं दिखे और उन्होंने साफ कहा वोट उन्हें देना है तो जिसे बेहतर समझेंगे उसे मतदान करेंगे। बिजली, पानी, सड़कों की स्थिति की बात करें तो ये सीमित क्षेत्रों में प्रभावी हैं। जाति की बात खूब हो रही है। इसी अधार पर हार-जीत का आकलन भी किया जा रहा है। हाट-बाजार या गांवों में जाने पर लोग जाति के अधार पर बंटते दिखाई दे रहे हैं। खेतीबारी यहां के मतदाताओं के जीविका का प्रमुख साधन है।

भभुंआ संवाददाता-आज शाम में थम जाएगा प्रचार, घर-घर करेंगे संपर्क

सासाराम संसदीय क्षेत्र में 19 मई को होने वाले मतदान को लेकर शुक्रवार की शाम से चुनावी शोर थम जाएगा। चुनाव कार्यालयों व वाहनों में बज रहे लाउडस्पीकर बंद हो जाएंगे। प्रचार-प्रसार में लगे अधिकांश वाहनों के चक्का थम जाएंगे। तब विभिन्न दलों के प्रत्याशी व उनके समर्थक अपने पक्ष में वोट मांगने के लिए मतदाताओं के घर-घर जाकर संपर्क करेंगे। प्रत्याशी व पार्टी ने अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए एड़ी-चोटी एक कर दिया है। कई दलों के बड़े नेता कैमूर में कैंप किए हुए हैं।

वरीय नेता सुबह व शाम में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रोज का उन्हें टास्क और टिप्स दे रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि कुछ दलों के वरीय नेता भी क्षेत्र में भ्रमण कर मतदाताओं को अपने प्रत्याशी के पक्ष में गोलबंद करने में जुटे हुए हैं। बूथ व पंचायत कमेटी के लोग भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

प्रत्याशियों की हर गतिविधि पर है प्रशासन की नजर

भभुआ। चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रत्याशी व उनके समर्थकों पर प्रशासन की पैनी नजर है। जिला प्रशासन द्वारा गठित सर्विलांस टीम के अधिकारी क्षेत्र में भ्रमण कर पल-पल की रिपोर्ट ले रहे हैं। जिला प्रशासन के एक वरीय पदाधिकारी ने यह बताया कि चुनाव प्रचार का अंतिम दौर चल रहा है। प्रत्याशी व उनके समर्थकों द्वारा आम मतदाताओं को लुभाने के लिए कई तरह के हथकंडे अपना सकते हैं। इसके मद्देनजर सर्विलांस टीम 24 घंटे क्षेत्र में भ्रमणशील है। प्रशासन ने आम मतदाताओं से अपील की है कि वह किसी के लालच व बहकावे में न आएं। अगर कोई उन्हें पैसा, शराब, साड़ी व अन्य समाग्री बांटता है तो इसकी सूचना तत्काल दें। ऐसे लोगों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

मतदान के दिन के लिए लेनी होगी अनुमति

भभुआ। प्रत्याशियों को मतदान के दिन बूथों पर भ्रमण करने के लिए वाहनों की अलग से अनुमति लेनी पड़ेगी। निर्वाचन कोषांग के वरीय पदाधिकारी कुमार विनोद ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा प्रत्याशियों को 17 मई की शाम पांच बजे तक ही प्रचार-प्रसार की अनुमति दी गई है। प्रत्याशी अपने वाहन से सिर्फ आ-जा सकते हैं। उन्होंने किसी भी दल के एक प्रत्याशी को आठ वाहन की अनुमति दी जाएगी। एक वाहन प्रत्याशी एवं दूसरा उनके चुनाव एजेंट के लिए प्राधिकृत किया जाएगा। जबकि छह विधानसभा में भी एक-एक वाहन का उपयोग कर सकते है।