भोपाल। मध्‍य प्रदेश के 27 विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने पहली बार बिना किसी शोर-शराबे के 15 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी। सूत्रों ने बताया कि अब बाकी 12 उम्‍मीदवारों के चयन पर मंथन चल रहा है।

0
131
भोपाल। मध्‍य प्रदेश के 27 विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने पहली बार बिना किसी शोर-शराबे के 15 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी। सूत्रों ने बताया कि अब बाकी 12 उम्‍मीदवारों के चयन पर मंथन चल रहा है। दूसरी पार्टी से आए कुछ और नेताओं को ग्वालियर-चंबल क्षेत्र से मौका दिए जाने की संभावना है। कुछ सीटों पर पार्टी अपने पुराने नेता या उनके पारिवारिक सदस्यों को भी चुनाव मैदान में उतार सकती है।

सूत्रों ने बताया कि प्रत्याशियों की दूसरी सूची के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ के 18-19 सितंबर को ग्वालियर दौरे के बाद आने की संभावना है। मध्‍य प्रदेश कांग्रेस में पहला मौका है जब बिना हंगामें के प्रत्याशियों की सूची जारी हो गई। इस सूची पर न प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर विरोध-प्रदर्शन के नारे सुनाई दिए, न ही जिलों में विरोध देखने को मिला है।

अब पार्टी के सामने 12 बची हुई सीटों जौरा, सुमावली, मुरैना, मेहगांव, ग्वालियर पूर्व, पोहरी, मुंगावली, सुरखी, बदनावर, मांधाता, सुवासरा और बड़ा मलहरा पर प्रत्याशियों के नामों को तय करना है। मांधाता विधानसभा सीट पर पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव और उनके धुर विरोधी राजनारायण पुरनी के नाम चर्चा में हैं। कांग्रेस के सामने सबसे ज्यादा कश्मकश ग्वालियर पूर्व सीट को लेकर है। यहां मुख्य रूप से सतीश सिकरवार, राकेश चौहान, संत कृपाल सिंह, देवेंद्र शर्मा की दावेदारी बताई जा रही है।

सतीश सिकरवार को कांग्रेस ने हाल ही में पार्टी की सदस्यता दिलाई है। उनके चचेरे भाई की दावेदारी भी दूसरी विधानसभा सीट से है। ऐसे में एक ही परिवार से दो लोगों को उपचुनाव में टिकट मिलने की संभावना कम है। बदनावर में धार के गौतम या बुंदेला के परिवारों के साथ स्थानीय व्यक्ति की मांग पर आशीषष धाकड़ और ध्रुवनारायण सिंह के नाम चर्चा में हैं। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस जो दूसरी सूची लाएगी उसमें भी बाहरी नेताओं को मौका दिया जाएगा।