रहिका कपिलेश्वर नाथ महादेव मंदिर मेंहजारों की संख्या में शिव भक्तों के भीड़ जल चढाने के लिए उत्साहित थे। शिव भजन कीर्तन के गीत से सम्पूर्ण माहोल भक्ति रस से सराबोर था। वहीं

बासोपट्टी एवं हरलाखी प्रखंड के तमाम शिवालयों में जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। प्रसिद्ध तीर्थ स्थल कल्याणेश्वर मंदिर, फुलहर गिरिजा स्थान के अलावे मनोकामना मंदिर कमतौल, मनोकामना नाथ महादेव मंदिर झिटकी, धरोहर मंदिर खिरहर, बाबा फुलेश्वर मंदिर हुर्राही सहित दर्जनों शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ देखते ही बन रही थी। मधेपुर में सावन मास की दूसरी सोमवारी पर शिवमय हो गया था शिवालय।

विभिन्न शिव मंदिरों में श्रद्घालुओं का दिनभर तांता लगा रहा। श्रद्घालुओं ने कोसी, कमला सहित अन्य नदियों के घाटों पर पवित्र जल भरकर कांवरिया के रूप में शिवालयों में जलाभिषेक किया। मधेपुर बूढ़ानाथ मंदिर, पुरानी बस स्टैण्ड स्थित छठनेश्वरनाथ, मटरस स्थित मटेश्वरनाथ, पारसमणिधाम रहुआ-संग्राम, रूपौली-चुन्नी नर्मदेश्वरनाथ, भीठ भगवानपुर स्थित विदेश्वरनाथ, द्वालख स्थित हरेश्वरनाथ, लौफा सहनी टोल, उमरी, औंक्सी, बांकी-कुशौल सहित अन्य शिवालयों में सुबह से भक्तों ने दर्शन कर आस्था अर्पित की।