मुंबई अगस्त महीने में भारी बारिश के कारण ढह गई मलबार हिल टेकडी को बीएमसी नेल टेक्नॉलजी से दोबारा मजबूत बनाएगी। इसके लिए 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

0
277

मुंबई
अगस्त महीने में भारी बारिश के कारण ढह गई मलबार हिल टेकडी को बीएमसी नेल टेक्नॉलजी से दोबारा मजबूत बनाएगी। इसके लिए 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे। बरसात को छोड़कर छह महीने में यह काम पूरा होगा। नेल टेक्नॉलजी के अंतर्गत गिरी मिट्टी में स्टील का रॉड लगाकर धातु की जाली लगाई जाएगी।
5 अगस्त को मुंबई में हुई भारी बारिश की वजह से मलबार हिल टेकडी का बड़ा हिस्सा गिर गया था। टेकडी को दोबारा दुरुस्त करने के लिए बीएमसी ने आईआईटी के प्राध्यापक डी़ एन.सिंह की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया था। इस समिति ने टेकडी को नेल टेक्नॉलजी से मजबूत करने की सिफारिश की है। साथ ही बी़ जे़ खेर रोड एवं एन.एस़ पाटकर मार्ग की भी मरम्मत का उपाय बताया है। टेकडी की मरम्मत व सलाहकार की फीस सहित बीएमसी ने इस काम के लिए 50 करोड़ 49 लाख रुपये तय किए हैं। यह प्रस्ताव बुधवार को स्थायी समिति की बैठक में मंजूरी के लिए पेश किया जाएगा।

मालाबार हिल पहाड़ी को नेल टेक्नॉलजी से मजबूत करने के बाद पांच साल तक कोई खतरा नहीं होगा। इसकी गारंटी काम करनेवाले ठेकेदार से ली जाएगी। मलबार हिल पहाड़ी को मजबूत करने और सड़क बनाने के लिए बीएमसी ने आठ विशेषज्ञों को नियुक्त किया था। इसमें से चार सदस्य बीएमसी के बाहर से हैं, जिनकी फीस पर 45 लाख 50 हजार रुपये खर्च किए गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here