मुंबई: कोरोना संकट से जूझ रही मुंबई को बचाने के लिए जारी गाइडलाइंस को भी कुछ लोग नहीं मान रहे हैं

0
24

मुंबई, कोरोना संकट से जूझ रही मुंबई को बचाने के लिए जारी गाइडलाइंस को भी कुछ लोग नहीं मान रहे हैं। ऐसे लापरवाह लोगों को सबक सिखाने के लिए बीएमसी कड़ा कदम उठा रही है। मास्क न लगाने और सार्वजनिक स्थानों पर फालतू घूमनेवालों से बीएमसी जुर्माना वसूल रही है। मुंबई में अब सार्वजनिक स्थानों पर थूकनेवालों पर भी बीएमसी फाइन लगा रही है।
कोरोना संकट को देखते हुए बीएमसी ने 17 सितंबर से सार्वजनिक स्थानों पर थूकनेवालों पर 200 रुपये दंड लगाने की शुरुआत की है। 17 सितंबर से 1 अक्टूबर के बीच 15 दिनों में बीएमसी की टीम ने 852 लोगों को सार्वजनिक स्थानों पर थूकते हुए पकड़ा। जिनसे कुल 1 लाख 46 हजार रुपये की दंड वसूली की गई। बता दें कि डॉक्टरों ने स्पष्ट कहा है कि सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से बीमारी फैल सकती है। इसलिए किसी को भी सार्वजनिक स्थानों पर नहीं थूकना चाहिए।
घाटकोपर, कुर्ला, गोरेगांव में सबसे अधिक फाइन
सार्वजनिक स्थानों पर सबसे ज्यादा थूकनेवाले घाटकोपर एरिया में पकड़े गए हैं। यहां 15 दिनों के भीतर 232 लोगों को पकड़ा गया है। इनसे 40100 रुपये दंडस्वरूप वसूले गए। इसके बाद कुर्ला, साकीनाका एरिया में 154 लोग थूकते हुए पकड़े गए, जिनसे बीएमसी की टीम ने 17900 रुपये वसूले।
इसके बाद गोरेगांव में 130 लोग पकड़े गए, जिन पर 26000 रुपये का फाइन लगाया गया। मुंबई के 24 वॉर्डों में से घाटकोपर, कुर्ला एवं गोरेगांव में सार्वजनिक स्थानों पर थूकते हुए सबसे ज्यादा लोग पकड़े गए हैं। वहीं, अन्य 23 वॉर्डों में थूकते हुए पकड़े जाने वालों का आंकड़ा 100 से कम है।(UNA)