मुंबई, चर्चित टीआरपी घोटाले (TRP Scam) की जांच कर रही मुंबई पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिंग टीम (SIT) ने रिपब्लिक टीवी पर और शिकंजा कसने की तैयारी की

0
195

मुंबई, चर्चित टीआरपी घोटाले (TRP Scam) की जांच कर रही मुंबई पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिंग टीम (SIT) ने रिपब्लिक टीवी पर और शिकंजा कसने की तैयारी की है। एसआईटी ने रिपब्लिक टीवी के पांच इन्वेस्टरों को समन जारी करके शनिवार को पूछताछ के लिए बुलाया है। एक अधिकारी ने बताया कि रिपब्लिक टीवी के फिनैंशियल ऑफिसर शिवा सुंदरम ने शुक्रवार को उन्हें कुछ दस्तावेज सौंपे, जो उनसे मांगे गए थे।
23 अक्टूबर को एसआईटी ने शिवा सुंदरम से इनकम टैक्स रिटर्स के दस्तावेज, खाताबही और एआरजी आउटलर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड ऑपरेटर्स रिपब्लिक टीवी की बैलेंसशीट मांगी थी। सभी एसआईटी को सौंप दिए गए हैं। शनिवार को निवेशकों के बयान दर्ज किए जाएंगे।
टीआरपी का यह है खेल
एसआईटी छह चैनलों, रिपब्लिक टीवी, न्यूज नेशन, बॉक्स सिनेमा, फक्त मराठी, महा मूवी और वॉओ के खिलाफ जांच कर रही है। इन चैनलों पर टीआरपी के साथ खेल करने का आरोप है। आरोप है कि टीआरपी मापने के लिए ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल ने चुनिंदा दर्शकों के घरों में 2,000 लोगों के मीटर लगाए हैं। BARC ने हंसा रिसर्च को बैरोमीटर की निगरानी का ठेका दिया था। बिचौलियों के साथ मिलकर इन घरों में इन चैनलों को ऑन रखने के लिए हायरिंग की गई।
हंसा ग्रुप ने किया आरोपों का खंडन
इधर हंसा ग्रुप ने एक प्रेस रिलीज जारी करके आरोपों का खंडन किया है। खडंन में कहा गया है कि ग्रुप कंपनी हंसा विजन और रिपब्लिक चैनल के बीच कोई भी रुपयों का लेनदेन नहीं हुआ है। रिलीज में लिखा है, ‘हंसा विजन के विशेष अनुरोध पर, इसके वैधानिक लेखा ऑडिटर गुरु और राम एलएलपी ने खातों को प्रमाणित किया है और हंसा विजन ऐंड एआरजी आउटलेयर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड की ओर से दर्ज किए गए सामान्य रूटीन व्यापार लेनदेन को प्रमाणित किया है। उनके साथ कोई अन्य लेनदेन नहीं है।’ भारतीय बॉडी ब्रॉडकास्टिंग ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च को घरों में बार-ओ-मीटर लगाने का ठेका दिया है ताकि लोगों के चैनल देखने को ट्रैक किया जा सके।(UNA)